NDTV Khabar

Meena Kumari की रोमांटिक शायरी, लिखा- आगाज तो होता है अंजाम नहीं होता, जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता

Google Doodle Meena Kumari: मीना कुमारी जितनी सधी हुई अदाकारा थीं, उतनी ही सधी हुई उनकी कलम भी थी. उनकी शायरी को मशहूर शायर-डायरेक्टर गुलजार ने 'तन्हा चांद' में संकलित किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Meena Kumari की रोमांटिक शायरी, लिखा- आगाज तो होता है अंजाम नहीं होता, जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता

शेरो शायरी भी लिखती थीं मीना कुमारी, गूगल ने बनाया डूडल

खास बातें

  1. 1 अगस्त, 1933 को हुआ था जन्म
  2. कमाल अमरोही थे पति
  3. 1972 में हुआ था निधन
नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्ट्रेस मीना कुमारी जितनी सधी अदाकारा थीं, उतनी ही सधी हुई उनकी कलम भी थी. मीना कुमारी (Meena Kumari) की शायरी बेमिसाल थी, और इस शायरी इश्क, ट्रेजडी और गम में की महक ऐसी गुंथी हुई है कि भावों की नैया में बिठाकर एक अलग ही दुनिया में ले जाती है. मीना कुमारी (Meena Kumari) की शायरी को बॉलीवुड के मशहूर शायर-डायरेक्टर गुलजार ने 'तन्हा चांद' नाम की किताब में संकलित भी किया है. मीना कुमारी (Meena Kumari) की शायरी कमाल की है, और कई मौकों पर उन्होंने बहुत ही बेहतरीन अंदाज में शायरी पढ़ी भी है. मीना कुमारी को हिंदी सिनेमा की 'फीमेल गुरु दत्त' भी कहा जाता है और उन्हें ट्रेजेडी क्वीन के नाम से भी पहचाना जाता है.. मीना कुमारी की फिल्म इंडस्ट्री में ऐसी इमेज थी कि एक्टर राजकुमार उन्हें देखकर अपने डायलॉग भूल जाते थे. मधुबाला उनकी जबरदस्त फैन थी. अमिताभ बच्चन मानते हैं कि जिस अंदाज में मीना कुमारी डायलॉग बोलती हैं, उस अंदाज में दूसरा कोई नहीं बोल सकता. 

Meena Kumari Birth Anniversary: मां-बाप ने मीना कुमारी को छोड़ दिया था अनाथ आश्रम के बाहर, इस वजह से कहलाईं 'ट्रेजेडी क्वीन'



Meena Kumari google doodle: फिराक गोरखपुरी ने मीना कुमारी पर निकाला था गुस्सा, बोले- मुशायरे को मुजरा बना दिया...

हालांकि वैवाहिक जीवन में सबकुछ सही नहीं रहने की वजह से मीना कुमारी को शराब की लत लग गई और मीना कुमारी (Meena Kumari) इस लत से अपने आखिरी समय तक जूझती रही. मीना कुमारी का जन्म 1933 में हुआ था और 1972 में उनका निधन हो गया. गूगल ने आज डूडल बनाकर उनकी 85 जयंती के मौके पर ट्रेजेडी क्वीन को याद किया है. 

आइये पढ़ते हैं बॉलीवुड की ट्रेजेडी क्वीन मीना कुमारी (Meena Kumari) के दर्द और रोमांस से भरे 5 शेरः

खुदा के वास्ते गम को भी तुम न बहलाओ 
इसे तो रहने दो मेरा यही तो मेरा है  

आगाज तो होता है अंजाम नहीं होता
जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता

हंसी थमी है इन आंखों में यूं नमी की तरह
चमक उठे हैं अंधेरे भी रौशनी की तरह

तेरे कदमों की आहट को ये दिल है ढूंढता हर दम
हर इक आवाज पर इक थरथराहट होती जाती है

टिप्पणियां
कहीं कहीं कोई तारा कहीं कहीं जुगनू
जो मेरी रात थी वो आप का सवेरा है

  ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement