Aus vs Ind 3rd Test: बॉर्डर ने भी उठायी पुजारा पर उंगली, तो टॉम मूडी ने कुछ ऐसे किया बचाव

Aus vs Ind 3rd Test: पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने भी पुजारा की बल्लेबाजी की आलोचना की और कहा कि ‘उन्हें अपनी स्कोरिंग गति में थोड़ा तेज होना चाहिए था क्योंकि मुझे लगता है कि इससे उनके बल्लेबाजी जोड़ीदारों पर ज्यादा ही दबाव पड़ रहा था.’

Aus vs Ind 3rd Test: बॉर्डर ने भी उठायी पुजारा पर उंगली, तो टॉम मूडी ने कुछ ऐसे किया बचाव

Aus vs Ind: एलन बॉर्डर सहित कई ऑस्ट्रेलियाइयों ने पुजारा की आलोचना की है.

खास बातें

  • रिकी पोंटिंग ने भी दी थी पुजारा को नसीहत
  • पुजारा की धीमी बल्लेबाजी को लेकर उठ रहे सवाल
  • टॉम मूडी ने किया है सॉलिड तर्कों के साथ बचाव
सिडनी:

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एलन बॉर्डर ने शनिवार को तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन भारतीय बल्लेबाजी रणनीति की आलोचना की और कहा कि चेतेश्वर पुजारा शॉट खेलने में डरे हुए थे और ऐसा लग रहा था कि वह रन बनाने के बजाय क्रीज पर टिके रहने के लिये खेल रहे थे. बॉर्डर ने ‘फाक्सस्पोर्ट्स डॉट कॉम डॉट एयू' से कहा, ‘वह (पुजारा) शॉट खेलने के लिये बिलकुल डरा हुआ लग रहा है, क्या ऐसा नहीं है? वह रन जुटाने के बजाय अपना विकेट बचाये रखने के लिये खेल रहा है. वैसे पुजारा को लेकर बाकी पूर्व कंगारू दिग्गजों और मेजबान मीडिया ने भी खेल खेलना शुरू कर  दिया है. जहां रिकी पोंटिंग ने भी पुजारा की बैटिंग पर सवाल खड़े किए, तो वहीं ऑस्ट्रेलिया मीडिया भी उन पर उंगली उठा रहा है. 

यह भी पढ़ें:  रवींद्र जडेजा के अंगूठे में फ्रैक्चर, चौथे टेस्ट से हुए बाहर

अब एलन बॉर्डर ने कहा, ‘इस श्रृंखला में उसका ज्यादा प्रभावी नहीं रहा है, उसने अपने रन जुटाने में इतना लंबा समय लिया, ऐसा लग रहा है कि वह क्रीज पर स्थिर हो गया है और इसका भारतीय बल्लेबाजी पर असर पड़ा. वे ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी पर हावी होते नहीं दिखे.' बॉर्डर ने कहा, ‘श्रेय गेंदबाजी को दिया जाना चाहिए जो काफी अच्छी रही और ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें कभी भी दबाव से बाहर नहीं निकलने दिया. आधी जंग तो यही है, गेंदबाजों को विकेट लेने में काफी मुश्किल हो रही थी लेकिन अगर स्कोरबोर्ड ही नहीं बढ़ रहा तो अंत में यह आपका इनाम ही है.'

यह भी पढ़ें: पुजारा का आलोचकों पर पलटवार, बोले कि मैं बेहतर जानता हूं कि...

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने भी पुजारा की बल्लेबाजी की आलोचना की और कहा कि ‘उन्हें अपनी स्कोरिंग गति में थोड़ा तेज होना चाहिए था क्योंकि मुझे लगता है कि इससे उनके बल्लेबाजी जोड़ीदारों पर ज्यादा ही दबाव पड़ रहा था.' वहीं पूर्व ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर टॉम मूडी का हालांकि मानना है कि पुजारा अपना नैसर्गिक खेल खेल रहे थे और स्कोरबोर्ड को चलायमान रखने की जिम्मेदारी कप्तान अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी की थी. 

यह भी पढ़ें: टीम इंडिया को राहत, पंत की कुहनी में कोई फ्रैक्चर नहीं और...

मूडी ने एक वेबसाइट से बातचीत में कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि इसमें पुजारा की कोई गलती है, अपने करियर में उसने आमतौर पर इसी तरह का क्रिकेट खेला है और टीम का उनसे अपनी नैसर्गिक शैली के उलट खेल की मांग करना अनुचित होगा.' उन्होंने कहा, ‘मैं इसे रहाणे और विहारी पर डालूंगा. विहारी आये और 38 गेंदों में चार रन बनाये. मेरे हिसाब से इन दोनों खिलाड़ियों को स्कोर को बढ़ाते रहने की जरूरत थी, उन्हें पुजारा की इस श्रृंखला में ही नहीं बल्कि अन्य श्रृंखलाओं में भी भूमिका को समझना चाहिए कि उन्होंने भारत के लिये टेस्ट क्रिकेट खेला है.'

Newsbeep

VIDEO: एक दिन पहले विराट ने अपने करियर को लेकर बड़ी बात कही थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com