NDTV Khabar

फेमा उल्‍लंघन: प्रवर्तन निदेशालय ने BCCI और अन्य पर लगाया 121 करोड़ रुपये का जुर्माना

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बीसीसीआई, इसके पूर्व चेयरमैन एन. श्रीनिवासन, तत्‍कालीन आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी तथा और अन्य पर विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) के उल्लंघन के लिए 121 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फेमा उल्‍लंघन: प्रवर्तन निदेशालय ने BCCI और अन्य पर लगाया 121 करोड़ रुपये का जुर्माना

प्रतीकात्‍मक फोटो

खास बातें

  1. फेमा के उल्‍लंघन के लिए लगाया गया यह जुर्माना
  2. द.अफ्रीका में हुए दूसरे IPL के दौरान का है मामला
  3. 243 करोड़ रु. ट्रांसफर करने में किया गया नियमों का उल्‍लंघन
नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बीसीसीआई, इसके पूर्व चेयरमैन एन. श्रीनिवासन, आईपीएल के तत्‍कालीन कमिश्नर ललित मोदी तथा और अन्य पर विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) के उल्लंघन के लिए 121 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. . ईडी की ओर से यह जुर्माना दक्षिण अफ्रीका में 2009 में हुए आईपीएल के दूसरे संस्करण के दौरान फेमा के उल्लंघन के लिए लगाया गया है. एक अधिकारी ने कहा कि इस मामले में 121.56 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है. हमने इस मामले में अपनी जांच जारी रखी है जिसमें दर्शाया गया है कि 2009 में आईपीएल के दूसरे संस्करण की मेजबानी के लिए दक्षिण अफ्रीका को 243 करोड़ रुपये स्थानांतरित करने में विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) का कथित उल्लंघन किया गया था. इस मामले में अधिकारी ने यह भी कहा कि एजेंसी ने बीसीसीआई पर 82.66 करोड़ रुपये, श्रीनिवासन पर 11.53 करोड़ रुपये, ललित मोदी पर 10.65 करोड़ रुपये, बीसीसीआई के पूर्व कोषाध्यक्ष एमपी पांडोव पर सात करोड़ रुपये तथा स्टेट बैंक ऑफ त्रावनकोर तथा प्रमुख प्रबंधक पर 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार जांच में यह सामने आया है कि 2009 में क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के खाते में 243 करोड़ रुपये स्थानांतरित किए गए थे और यह धन सीएसए-आईपीएल के नाम पर सीएसए द्वारा खोले गए एक और समर्पित बैंक खाते में भेजा गया था.

वीडियो: गावस्‍कर ने इस अंदाज में की विराट कोहली की प्रशंसा

टिप्पणियां
अधिकारी ने कहा, "ऐसे में बीसीसीआई और सीएसए के बीच एक समझौते के आधार पर, बीसीसीआई ने इस विदेशी बैंक खाते के संचालन पर पूर्ण नियंत्रण का उपयोग किया, जिससे किसी भी भारतीय प्राधिकरण द्वारा इन खचरें की जांच से बचा जा सके."

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement