NDTV Khabar

IND vs SA: पहला टेस्‍ट कल से, तेज गेंदबाजों का कांबिनेशन चुनने को लेकर दुविधा में भारतीय टीम मैनेजमेंट

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार से यहां प्रारंभ हो रहे पहले टेस्‍ट में विराट कोहली की टीम इंडिया के समक्ष घरेलू मैदान की अपनी सफलता को बरकरार रखने की कठिन चुनौती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
IND vs SA: पहला टेस्‍ट कल से, तेज गेंदबाजों का कांबिनेशन चुनने को लेकर दुविधा में भारतीय टीम मैनेजमेंट

टीम इंडिया के सामने दक्षिण अफ्रीकी मैदानों पर भी अच्‍छा प्रदर्शन करने की चुनौती है (फाइल फोटो)

केपटाउन: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार से यहां प्रारंभ हो रहे पहले टेस्‍ट में विराट कोहली की टीम इंडिया के समक्ष घरेलू मैदान की अपनी सफलता को बरकरार रखने की कठिन चुनौती है. टीम इंडिया पहले क्रिकेट टेस्ट के साथ जब विदेशी सरजमीं पर 12 टेस्ट के अपने अभियान की शुरुआत करेगी तो उसका लक्ष्य देश के साथ विदेश मैदानों पर अपना दबदबा बनाना होगा. भारत के कठिन 2018-19 सत्र की शुरुआत दक्षिण अफ्रीका में तीन टेस्ट के दौरे से होगी जबकि इसके बाद उसे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के कठिन दौरों पर भी जाना है. यह सत्र भारतीय कप्तान विराट कोहली और उनके खिलाड़ियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जिनके सामने विदेशी सरजमीं पर भारत के प्रदर्शन में सुधार करने की चुनौती है. इसके लिए हालांकि भारतीय टीम अपने तेज गेंदबाजों पर काफी निर्भर करेगी. भारत टीम प्रबंधन के सामने असंजमस इस बात को लेकर है कि वह अपने पांच तेज गेंदबाजों ईशांत शर्मा, मोहम्‍मद शमी, भुवनेश्‍वर कुमार, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह में से किन तीन गेंदबाजों को प्‍लेइंग इलेवन में स्‍थान दे. ऑलराउंडर के तौर पर हार्दिक पंड्या को टीम में जगह मिलने की संभावना है. दुनिया की नंबर एक टीम भारत ने दूसरे स्थान की टीम दक्षिण अफ्रीका पर मजबूत बढ़त बना रखी है और अगर टीम को टेस्ट सीरीज में 0-3 से क्लीनस्वीप का सामना करना पड़ता है तो भी वह अपनी शीर्ष रैंकिंग नहीं गंवाएगी. कोहली की टीम के लिए हालांकि यह सिर्फ अंक और रैंकिंग से जुड़ी सीरीज नहीं है. मेजबान दक्षिण अफ्रीका को अपने तेज गेंदबाजी आक्रमण से उम्मीद है कि वह भारत के मजबूत बल्लेबाजी क्रम को ध्वस्त कर देगा लेकिन लगातार नौ सीरीज जीतने के बाद भारतीय टीम आत्मविश्वास से भरी है कि वे किसी भी हालात में जीत दर्ज कर सकते हैं. भारत ने इन नौ में से छह सीरीज स्वदेश में जीती जबकि दो श्रीलंका और एक वेस्टइंडीज में अपने नाम की, जहां हालात उसके अनुकूल थे.

यह भी पढ़ें: टेस्‍ट सीरीज में एक्‍स-फैक्‍टर साबित हो सकते हैं पंड्या, यह है सचिन और द्रविड़ की राय

भारत ने पिछली सीरीज ऑस्ट्रेलिया में 2014-15 में गंवाई थी जब उसे चार टेस्ट की सीरीज में 0-2 से हार का सामना करना पड़ा था. दक्षिण अफ्रीका में हालांकि भारत का रिकॉर्ड काफी खराब है जहां उसने छह में से पांच सीरीज गंवाई हैं जबकि एक ड्रॉ रही. भारत ने 1992 से दक्षिण अफ्रीका की सरजमीं पर खेले 17 टेस्ट में से सिर्फ दो में जीत दर्ज की है. टीम ने एक जीत 2006-07 में राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में जबकि एक 2010-11 में महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में दर्ज की. भारत ने हालांकि पिछले दो दौरों पर दक्षिण अफ्रीका में बेहतर प्रदर्शन किया है. टीम ने 2010-11 में सीरीज ड्रॉ कराई जबकि 2013-14 में उसे कड़ी टक्कर देने के बावजूद हार का सामना करना पड़ा.

भारत की 2013-14 टीम के 13 खिलाड़ी मौजूदा टीम के सदस्य हैं जो काफी अनुभव हासिल कर चुकी है और जीत दर्ज कर रही है. जहां तक इस आयोजन स्थल का सवाल है तो न्यूलैंड्स में चार टेस्ट में भारतीय टीम कभी जीत दर्ज नहीं कर पाई और इस दौरान उसे दो मैचों में हार का सामना करना पड़ा जबकि दो मैच ड्रॉ रहे. अब देखना यह होगा कि कोहली की टीम एक कदम आगे बढ़ पाती है या नहीं जो मेहमान कप्तान का दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं पर सिर्फ तीसरा टेस्ट होगा. इस बार भारत का तेज गेंदबाजी आक्रमण मजबूत है जो किसी भी बल्लेबाजी क्रम को ध्वस्त करने में सक्षम है.

यहां सूखे की स्थिति के बावजूद न्यूलैंड्स का घसियाला विकेट आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. पहले टेस्ट के विकेट को देखते हुए भारत कम से कम तीन गेंदबाजों के साथ उतरेगा. ऐसे में भुवनेश्वर कुमार, इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी को मौका मिलने की संभावना है. वायरल बीमारी के कारण रविंद्र जडेजा का खेलना संदिग्ध है और इससे अंतिम एकादश में एकमात्र स्पिनर के स्थान के लिए रविचंद्रन अश्विन का दावा मजबूत होता है. भारत फॉर्म में चल रहे रोहित शर्मा के रूप में अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ उतर सकता है जबकि हार्दिक पंड्या को आलराउंडर के रूप में मौका दिया जा सकता है.

भारत के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव की संभावना बेहद कम है. सलामी बल्लेबाज शिखर धवन फिट घोषित हो चुके हैं और वह मुरली विजय के साथ पारी की शुरुआत करने के लिए पहले विकल्प होंगे. लोकेश राहुल को ऐसे में बाहर बैठना होगा.

उप कप्तान अजिंक्य रहाणे खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं लेकिन इसके बावजूद विदेशी अभियान के पहले ही मैच में उन्हें बाहर किए जाने की संभावना नहीं है. रोहित श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता टेस्ट का हिस्सा नहीं थे जब भारत पिछली बार घसियाली पिच पर खेला था. लेकिन इसके बाद उन्होंने सभी प्रारूपों में तीन शतक के साथ अपना दावा मजबूत किया है. भारत की तरह दक्षिण अफ्रीकी टीम में भी चयन को लेकर अभी कुछ स्पष्ट नहीं है. डेल स्टेन को फिट घोषित किया गया है लेकिन इस तेज गेंदबाज का खेलना तय नहीं है. मेजबान टीम पिछले कुछ समय से तीन तेज गेंदबाजों और एक स्पिनर के संयोजन के साथ उतर रही है जिसमें बायें हाथ के स्पिनर केशव महाराज तेज गेंदबाजों का साथ दे रहे हैं. कागिसो रबादा, वर्नोन फिलेंडर और मोर्ने मोर्कल मेजबान टीम के तेज गेंदबाजी आक्रमण का हिस्सा हो सकते हैं क्योंकि तेज पिच को देखते हुए दक्षिण अफ्रीका भी अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ उतरना चाहेगा. विकेटकीपर क्विंटन डिकॉक पैर की मांसपेशियों के खिंचाव से उबर चुके हैं और एकमात्र चिंता एबी डिविलियर्स की फिटनेस को लेकर है. डिविलियर्स जिंबाब्वे के खिलाफ कार्यवाहक कप्तान थे लेकिन तब से नियमित कप्तान फाफ डु प्लेसिस पूर्ण फिटनेस हासिल कर चुके हैं. डिविलियर्स अगर फिट होते हैं तो उन्हें मौका देने के लिए टीम आलराउंडर को बाहर कर सकती है.

वीडियो: गावस्‍कर ने इस अंदाज में की विराट कोहली की प्रशंसा

दोनों टीमें इस प्रकार हैं...

टिप्पणियां
दक्षिण अफ्रीका: फाफ डु प्लेसिस (कप्तान), डीन एल्गर, एडेन मार्कराम, हाशिम अमला, एबी डिविलियर्स, क्विंटन डिकॉक, वर्नोन फिलेंडर, केशव महाराजा, डेल स्‍टेन, कागिसो रबाडा और मोर्ने मोर्केल.

भारत : विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, रोहित शर्मा, ऋद्धिमान साहा, हार्दिक पंड्या, आर. अश्विन, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement