NDTV Khabar

जावेद मियांदाद ने PCB से कहा, 'द्विपक्षीय सीरीज के लिए BCCI से भीख मांगने की जरूरत नहीं है'

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और कोच जावेद मियांदाद ने अपने देश के क्रिकेट बोर्ड से निकट भविष्य में भारत से खेलने के बारे में भूल जाने की बात कही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जावेद मियांदाद ने PCB से कहा, 'द्विपक्षीय सीरीज के लिए BCCI से भीख मांगने की जरूरत नहीं है'

जावेद मियांदाद ने कहा कि अगर हम भारत से नहीं खेलते तो हमारा क्रिकेट खत्म नहीं होगा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मियांदाद ने कहा, हमें उनके बारे में भूल जाना चाहिए
  2. भारत से नहीं खेलने से हमारा क्रिकेट खत्‍म नहीं होगा
  3. पीसीबी को देश के क्रिकेट ढांचे को सुधारना चाहिए
कराची:
टिप्पणियां
पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और कोच जावेद मियांदाद ने अपने देश के क्रिकेट बोर्ड से निकट भविष्य में भारत से खेलने के बारे में भूल जाने की बात कही है. यही नहीं, उन्‍होंने कहा कि पीसीबी को मुल्‍क के क्रिकेट ढांचे में सुधार पर ध्यान देना चाहिए. पाकिस्‍तान के प्रमुख बल्‍लेबाजों में शुमार मियांदाद ने कराची में एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया से कहा, ‘वे हमसे नहीं खेलना चाहते, तो ऐसा ही रहेगा. अगर हम भारत से नहीं खेलते तो हमारा क्रिकेट खत्म नहीं होगा. हमें आगे बढ़ना चाहिए और उनके बारे में भूल जाना चाहिए.’124 टेस्ट खेलने वाले इस पूर्व बल्‍लेबाज ने कहा कि पीसीबी को द्विपक्षीय मैचों के लिये बीसीसीआई से भीख मांगने की कोई जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘वे पिछले 10 वर्षों से हमसे नहीं खेले हैं, तो क्या हुआ? क्या हमारा क्रिकेट नीचे चला गया है? नहीं, हमने अच्छा किया है. चैम्पियंस ट्राफी में खिताबी जीत इसका उदाहरण है. पाकिस्तान में क्रिकेट खत्म नहीं हो सकता. 2009 के बाद हम बिना अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के ही हैं.’

वीडियो: गावस्‍कर ने इस अंदाज में की विराट की प्रशंसा
गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान ने 2008 मुंबई आतंकी हमलों क बाद से दोनों देशों के बीच राजनीतिक तनाव के चलते 2012 के बाद से द्विपक्षीय क्रिकेट नहीं खेला है. वैसे, आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी और वर्ल्‍डकप जैसे बड़े टूर्नामेंट में दोनों टीमों के बीच मुकाबला होता रहता है. (इनपुट: भाषा)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement