NDTV Khabar

ट्रॉफी नहीं दिल जीतकर स्वदेश पहुंची महिला क्रिकेट टीम, एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत

टीम भले ही वर्ल्ड कप नहीं जीत सकी, लेकिन उसने करोड़ों भारतीयों का दिल जरूर जीत लिया. बेहद करीबी फाइनल मुकाबले में उसे इंग्लैंड ने 9 रन से शिकस्त देकर खिताब पर कब्जा जमाया था.

876 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रॉफी नहीं दिल जीतकर स्वदेश पहुंची महिला क्रिकेट टीम, एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत

मुंबई एयरपोर्ट पर भारतीय खिलाड़ियों का जोरदार स्वागत हुआ.

खास बातें

  1. टीम की आठ खिलाड़ी बुधवार तड़के मुंबई पहुंची
  2. बाकी खिलाड़ी दोपहर तक स्वदेश लौटेंगी
  3. फाइनल में इंग्लैंड से हार मिली थी भारतीय टीम को
नई दिल्ली: भारतीय महिला क्रिकेट टीम बुधवार तड़के लंदन से स्वदेश पहुंची. टीम का एयरपोर्ट पर प्रशंसकों द्वारा जोरदार स्वागत किया गया. टीम भले ही वर्ल्ड कप नहीं जीत सकी, लेकिन उसने करोड़ों भारतीयों का दिल जरूर जीत लिया. रविवार को खेले गए बेहद करीबी फाइनल मुकाबले में उसे मेजबान इंग्लैंड ने 9 रन से शिकस्त देकर खिताब पर कब्जा जमा लिया था. मुबंई एयरपोर्ट पर फैंस ने खिलाड़ियों का तिलक लगाकर स्वागत किया. टीम का उत्साह बढ़ाने के लिए प्रशंसक तिरंगा लेकर पहुंचे थे. 

यह भी पढ़ें : श्रीनिवासन और निरंजन शाह नहीं ले सकते BCCI की स्पेशल जनरल मीटिंग में हिस्सा : सुप्रीम कोर्ट

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हरमनप्रीत कौर और झुलन गोस्वामी सहित कुल आठ खिलाड़ी सुबह लौटे हैं, जबकि अन्य खिलाड़ी बुधवार दोपहर तक भारत पहुंचेंगे. जो खिलाड़ी सुबह लौटे हैं उनमें सुषमा वर्मा, स्मृति मंधाना, शिखा पांडे, पूनम राउत और दीप्ति शर्मा भी शामिल हैं. भारतीय टीम दूसरी बार प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंची थी, लेकिन एक बार फिर उसे उपविजेता रहकर संतोष करना पड़ा. 

यह भी पढ़ें : महिला विश्वकप 2017: भारतीय महिला टीम की हर सदस्य को 50 लाख रुपये देगा बीसीसीआई

वीडियो देखें :  फाइनल हारे, लेकिन दिल जीता



मिताली ने बनाया रिकॉर्ड

भारत की तरफ से दो वर्ल्ड कप फाइनल में कप्तानी करने वाली मिताली राज एकमात्र भारतीय खिलाड़ी हैं. 2005 में भी भारत महिला वर्ल्डकप के फाइनल में पहुंचा था और तब भी मिताली कप्तान थीं. आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ है जब भारत के किसी पुरुष या महिला क्रिकेटर ने वर्ल्ड कप के दो या दो से ज्यादा फाइनल में कप्तानी करने का गौरव हासिल किया हो. 1983 में भारत की पुरुष टीम पहली बार वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंची था तब कपिल देव कप्तान थे. 2003 में भारत ने दूसरी बार सौरव गांगुली के कप्तानी में फाइनल में पहुंचने का गौरव हासिल किया था लेकिन वह चैंपियन नहीं बन पाया था. वहीं, 2011 के वर्ल्ड कप के फाइनल में भी भारतीय टीम पहुंचीं थी तब महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी में उसने श्रीलंका को छह विकेट से हराकर दूसरी बार चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया था. 

यह भी पढ़ें :  राहुल द्रविड़ सीनियर टीम के साथ विदेश दौरों पर नहीं जाएंगे : विनोद राय

बीसीसीआई देगा इनाम

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने आईसीसी महिला विश्व कप में शानदार प्रदर्शन करने वाली भारतीय टीम की हर सदस्य को 50 लाख रुपये नकद पुरस्कार देने का ऐलान किया है. सहयोगी स्टाफ को भी 25-25 लाख रुपये दिए जाएंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement