NDTV Khabar

यूपी में बाहुबलियों के ठेंगे पर कानून! लखनऊ से अपहरण करवा देवरिया जेल में प्रॉपर्टी के कागजों पर जबरन कराए साइन

पुलिस को मिली शिकायत के मुताबिक यह सब कुछ जेल परिसर के अंदर हुआ और प्रशासन की जानकारी में था. वहीं जेल प्रशासन ने भी माना है कि मोहित जयसवाल नाम का शख्स अतीक अहमद से मिलने आया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ भले ही कानून व्यवस्था को लेकर कितना भी दावा कर लें लेकिन जेल बंद कुख्यात बाहुबली नेता अतीक अहमद के गुर्गों ने सभी दावों की धज्जियां उड़ा कर रख दीं. मिली जानकारी के मुताबिक कारोबारी मोहित जायसवाल ने जब रंगदारी देने से मना कर दिया तो अतीक अहमद ने अपने गुर्गों से उसे अगवा करा जेल मंगा लिया. वहां बेटे और अपने कुछ साथियों के साथ मारपीट की और फिर 45 करोड़ कीमत की ज़मीन के दस्तेवाज़ पर जबरन साइन करावा लिए. बाद में कारोबारी जब लखनऊ पहुंचा तो उसने पुलिस में शिकायत की. मामला मीडिया में सामने आने के बाद पूर्व बाहुबली सांसद अतीक अहमद के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली और ज़िले के आला अधिकारियों ने जेल में छापेमारी कर अतीक अहमद के 2 गुर्गों को गिरफ़्तार कर लिया.  सवाल बाद में हुई कार्रवाई का नहीं है. हैरानी वाली बात यह है कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से कारोबारी मोहित जायसवाल का अपहरण कर उसे 316 किलोमीटर दूर देवरिया जेल ले जाया गया लेकिन पुलिस और न तो स्थानीय खुफिया विभाग को भनक तक नहीं लगी. मोहित जयसवाल ने बताया कि उसका अपहरण 26 दिसंबर को हुआ था और उसे उसकी एसयूवी से देवरिया ले जाया गया. जहां उसकी मुलाकात अतीक अहमद से कराई गई. एफआईआर में लिखा है कि अतीक अहमद ने उसके मारपीट की और जमीन के कागजात पर जबरन दस्तखत करा लिए गए.

योगी सरकार ने कानून व्यवस्था को लेकर उठाया बड़ा कदम, 90 से ज्यादा बाहुबलियों की जेल बदली


पुलिस को मिली शिकायत के मुताबिक यह सब कुछ जेल परिसर के अंदर हुआ और प्रशासन की जानकारी में था. वहीं जेल प्रशासन ने भी माना है कि मोहित जयसवाल नाम का शख्स अतीक अहमद से मिलने आया था. लेकिन इस बात की जानकारी नहीं है कि उसे अपहरण करके लाया गया और उसके साथ किसी तरह की जबरदस्ती की गई. 

यूपी के बाहुबली नेता अतीक अहमद पर हाईकोर्ट हुआ सख्त, यूपी सरकार को सुनाई खरी-खरी

टिप्पणियां

आपको बता दें कि अतीक अहमद के खिलाफ 70 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं. जिसमें हत्या, किडनैपिंग और उगाही जैसे मामले हैं. अतीक अहमद को पिछले साल ही इलाहाबाद से देवरिया जेल शिफ्ट किया गया था.अतीक के खिलाफ हत्या के इन मामलों में बीएसपी विधायक राजू पाल की हत्या का भी मामला दर्ज है. नियम-कानून की धज्जियां उड़ने के बाद अब यूपी सरकार की ओर से जेल प्रशासन से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है. 


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement