NDTV Khabar

दिल्ली : पर्चे में लिखे मौत के तरीके और दिन, तो क्या तंत्र-मंत्र के चक्कर में गई 11 जानें? रिश्तेदारों ने नकारा 

जिस तरह से 11 मौतें हुई हैं ठीक वही तरीका इन दोनों रजिस्टरों में लिखा गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली : पर्चे में लिखे मौत के तरीके और दिन, तो क्या तंत्र-मंत्र के चक्कर में गई 11 जानें? रिश्तेदारों ने नकारा 

रिश्तेदारों ने अंधविश्वास के कोण को नकार दिया है और हत्या की आशंका जताई है.

खास बातें

  1. एक दिन पहले बुराड़ी में मिले थे 11 शव, पुलिस जांच में जुटी
  2. तंत्र-मंत्र और अंधविश्वास के चक्कर में मौत का शक गहराया
  3. हालांकि रिश्तेदारों ने इस बात को नकार दिया है
नई दिल्ली: दिल्ली के बुराड़ी में रविवार को एक ही परिवार के 11 शव मिलने से सनसनी फैल गई थी. अब यह मामला मर्डर और सुसाइड के बीच उलझ गया है. दिल्ली पुलिस और क्राइम ब्रांच दोनों पहलुओं पर जांच कर रही है, लेकिन इस मामले में जो एक और तथ्य सामने आ रहा है वह बेहद चौंकाने वाला है. और इससे सवाल खड़े हुए हैं कि क्या 11 मौतों के पीछे तंत्र-मंत्र और अंधविश्वास तो नहीं है? जहां शव लटके हुए थे उसके पास ही एक कमरे से पुलिस ने 2 रजिस्टर बरामद किए हैं. दोनों रजिस्टरों में कई पेज भरे हुए हैं तो कुछ खाली हैं. ये पन्ने हाथ से लिखे गए हैं. बताया जा रहा है कि जिस तरह से 11 मौतें हुई हैं ठीक वही तरीका इन दोनों रजिस्टरों में लिखा गया है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक रजिस्टरों में लिखा है कि 'रात में एक बजे के बाद जाप शुरू करो, मौत के पहले अपनी आंखें बंद करो कपड़े और रुई रखकर, मरते समय छटपटाहट होगी इसलिए अपने हाथ काबू करने के लिए उन्हें बांध लो, ये काम शनिवार और गुरुवार को अच्छा रहेगा.' 

EXCLUSIVE: दिल्‍ली के बुराड़ी में हुई 11 मौतों का राज 2 रजिस्टर में!

यहां गौर करने वाली बात यह भी है कि परिवार काफी समृद्ध था. फर्नीचर के कारोबार के साथ दुकानें भी थीं. रिश्तेदारों की मानें तो किसी तरह की आर्थिक दिक्कत नहीं थी. पड़ोसियों  के मुताबिक पूरा परिवार बेहद धार्मिक था, इनके घर में हर दूसरे दिन शाम को कीर्तन होता था, घर के बाहर हर रोज एक तख्ती पर श्लोक लिखे जाते थे. परिवार के सभी 11 लोग हर व्रत साथ करते थे, परिवार का एक सदस्य पिछले 2-3 साल से मौन व्रत पर था. इससे तंत्र-मंत्र के पहलू पर शक और गहरा जाता है. हालांकि दूसरी तरफ, रिश्तेदारों ने अंधविश्वास के पहलू को नकार दिया है. उन्होंने इस घटना में साजिश की आशंका जताई और कहा कि ‘‘वे शिक्षित लोग थे, अंधविश्वासी नहीं ’’. परिवार के एक रिश्तेदार केतन नागपाल ने आरोप लगाया कि उन्हें मारा गया है. उन्होंने पुलिस की इस कहानी को खारिज किया कि हो सकता है यह ‘एकसाथ खुदकुशी’ का मामला हो. उन्होंने कहा कि यह एक समृद्ध परिवार था. रिश्तेदारों ने दावा किया कि इन मौतों में कोई 'धार्मिक कोण' नहीं है.

बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत की जांच करेगी क्राइम ब्रांच, जांच में आध्यात्मिक पहलू भी शामिल

आपको बता दें कि रविवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में रहस्यमय परिस्थितियों में सात महिलाओं सहित एक ही परिवार के 11 सदस्य मृत पाए गये. पुलिस ने बताया कि दस लोग फंदे से लटके मिले. उनकी आंखों पर पट्टी बंधी हुयी थी जबकि 75 वर्षीय एक महिला का शव फर्श पर पड़ा हुआ था. दो मृतक नाबालिग हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने घटनास्थल का दौरा किया. पुलिस के मुताबिक, एक पड़ोसी ने सबसे पहले उन्हें सूचना दी कि छह से सात लोगों ने खुदकुशी कर ली है. लेकिन जब घटनास्थल पर पहुंचा तो पता चला कि एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत हो गयी है.

टिप्पणियां
दिल्ली : बुराड़ी में 11 लाशों के पीछे आखिर क्या है रहस्य, अब तक सामने आई हैं ये 7 बातें  

VIDEO: दिल्ली के बुराड़ी में एक घर में मिले 11 शव, पुलिस को आत्महत्या का शक


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement