कोरोना के हल्के व बिना लक्षण वाले मरीज़ों को 24 घंटे के अंदर अस्पताल से दें छुट्टी- दिल्ली सरकार का आदेश

आदेश के तहत, 'किसी कोरोना हॉस्पिटल में अगर कोई संदिग्ध कोरोना मरीज़ एडमिट है तो उसको अलग वार्ड में रखा जाए और कोरोना मरीजों लिए जो आइसोलेशन बेड्स निर्धारित हैं उनको किसी कोरोना संदिग्धों को ना दिया जाए."

कोरोना के हल्के व बिना लक्षण वाले मरीज़ों को 24 घंटे के अंदर अस्पताल से दें छुट्टी- दिल्ली सरकार का आदेश

कोरोना मरीज़ों को बेड नहीं मिलने की शिकायतों पर दिल्ली सरकार का आदेश (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कोरोना मरीज़ों को बेड नहीं मिलने की शिकायतों पर दिल्ली सरकार का आदेश
  • हल्के व बिना लक्षण वाले मरीज़ों को 24 घंटे में छुट्टी दें
  • संदिग्ध कोरोना मरीज़ एडमिट है तो उसको अलग वार्ड में रखा जाए
नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) संक्रमितों की शिकायतों पर गौर करते हुए दिल्ली सरकार ने बिना लक्षण वाले और हल्के लक्षण वाले कोरोना मरीज़ों डिस्चार्ज करने का अस्पतालों को आदेश दिया है. दिल्ली सरकार का आदेश है जिन अस्पतालों ने बिना लक्षण वाले और हल्के लक्षण वाले कोरोना मरीज़ एडमिट किए हैं उनको एडमिशन के 24 घंटे के अंदर डिस्चार्ज करें. दिल्ली के अस्पतालों से लगातार COVID-19 मरीज़ों की तरफ से शिकायतें आ रही हैं कि उनको बेड नहीं दिए जा रहे हैं. मरीज़ों की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए दिल्ली सरकार ने यह आदेश जारी किया है. 

आदेश के तहत, 'किसी कोरोना हॉस्पिटल में अगर कोई संदिग्ध कोरोना मरीज़ एडमिट है तो उसको अलग वार्ड में रखा जाए और कोरोना मरीजों लिए जो आइसोलेशन बेड्स निर्धारित हैं उनको किसी कोरोना संदिग्धों को ना दिया जाए'. यह संज्ञान में आया है कि बहुत से बिना लक्षण वाले और हल्के लक्षण वाले मामले भी अस्पताल में एडमिट किए गए गए हैं. 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी गाइडलाइन के मुताबिक, यह साफ है कि बिना लक्षण वाले और हल्के लक्षण वाले मरीजों को हॉस्पिटलाइज (अस्पताल में रखने) की जरूरत नहीं है. उनको होम आइसोलेशन में रखने की सलाह दी गई है. 'सभी अस्पतालों को निर्देश दिया जाता है कि वह इन निर्देशों का पालन करें और जो निर्देशों का पालन नहीं करेगा उसको गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की जाएगी' 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आदेश में कहा गया है कि सभी अस्पतालों को यह भी निर्देश दिया गया है कि वह रियल टाइम में सूचित करें कि उनके यहां पॉजिटिव मरीज़ एडमिट, डिस्चार्ज और बेड्स की उपलब्धता क्या है. अस्पताल यह भी बताएं कि उनके यहां रोजाना कितने सैंपल टेस्ट के खातिर लिए जा रहे हैं और कितनों के रोजाना नतीजे आ रहे हैं.

वीडियो: दिल्ली : गंगाराम और मूलचंद भी अब कोरोना अस्पताल