NDTV Khabar

Eid 2017: चांद देखकर ही क्यों मनाते हैं ईद, आखि‍र क्या है दोनों के बीच का संबंध...

शव्वाल का चांद नजर न आने पर माना जाता है कि रमजान का महीना मुकम्मल होने में कमी है. इसी वजह से ईद अगले दिन या जब भी चांद नजर आए तब मनाई जाती है.

528 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Eid 2017: चांद देखकर ही क्यों मनाते हैं ईद, आखि‍र क्या है दोनों के बीच का संबंध...

Happy Eid 2017: ईद और चांद का खास कनेक्शन

खास बातें

  1. ईद का चांद रमजान के 30वें रोज़े के बाद ही दिखता है.
  2. इसे मीठी ईद भी कहा जाता है.
  3. दिन ईद का चांद नजर आता है ईद भी उसी दिन मनाई जाती है.
जब भी ईद की बात होती है, तो सबसे पहले जिक्र आता है ईद के चांद का. ईद का चांद रमजान के 30वें रोज़े के बाद ही दिखता है. इसी चांद को देखकर ईद मनाई जाती है. हिजरी कैलेण्डर, जोकि इस्लामिक कैलेण्डर है, के अनुसार ईद साल में दो बार आती है. एक ईद होती है ईद-उल-फितर और दूसरी को कहा जाता है ईद-उल-जुहा. ईद-उल-फितर को महज ईद भी कहा जाता है. इसके अलावा इसे मीठी ईद भी कहा जाता है. जबकि ईद-उल-जुहा को बकरीद के नाम से भी जाना जाता है. 

ईद 2017: रमजान का अंतिम जुमा आज, प्यार और सौहार्द्र की भावना को बढ़ाता है रोजा...
 
बैंक रहेंगे अगले तीन दिनों तक बंद

अब आते हैं इस सवाल पर कि ईद किस दिन मनाई जाती है. तो जिस दिन ईद का चांद नजर आता है ईद भी उसी दिन मनाई जाती है. यही वजह है कि कई बार एक ही देश में अलग-अलग दिन ईद मनाई जा सकती है. जहां चांद पहले देखा जाता है वहां ईद पहले मन जाती है... इस बात से यह तो साफ होता है कि ईद और चांद के बीच कुछ खास रिश्ता है. आईए आज आपको बताते हैं कि ईद और चांद के बीच है क्या स्पेशल कनेक्शन... 

इस साल देशभर में 26 जून को मनाई जाएगी ईद

Eid 2017: क्या रमजान और ईद-उल-फितर से जुड़ी इन 7 रोचक बातों को जानते हैं आप...

ईद और चांद का खास कनेक्शन
ईद-उल-फ़ितर हिजरी कैलंडर (हिजरी संवत) के दसवें महीने शव्वाल यानी शव्वाल उल-मुकरर्म की पहली तारीख को मनाई जाती है. अब समझने वाली बात यह भी है कि हिजरी कैलेण्डर की शुरुआत इस्लाम की एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक घटना से मानी जाती है. वह घटना है हज़रत मुहम्मद द्वारा मक्का शहर से मदीना की ओर हिज्ऱत करने की यानी जब हज़रत मुहम्मद ने मक्का छोड़ कर मदीना के लिए कूच किया था.

हिजरी संवत जिस हिजरी कैलेण्डर का हिस्सा है वह चांद पर आधारित कैलेण्डर है. इस कैलेण्डर में हर महीना नया चांद देखकर ही शुरू माना जाता है. ठीक इसी तर्ज पर शव्वाल महीना भी ‘नया चांद’ देख कर ही शुरू होता है. और हिजरी कैलेण्डर के मुताबिक रमजान के बाद आने वाला महीना होता है शव्वाल. ऐसे में जब तक शव्वाल का पहला चांद नजर नहीं आता रमजान के महीने को पूरा नहीं माना जाता.
 
शव्वाल का चांद नजर न आने पर माना जाता है कि रमजान का महीना मुकम्मल होने में कमी है. इसी वजह से ईद अगले दिन या जब भी चांद नजर आए तब मनाई जाती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement