NDTV Khabar

इस चैनल पर 'जयंति शुक्राचार्य की' और 'जगदम्बा कहानी शक्तिपीठों की', दोनों शो 15 अप्रैल से शुरू

'जगदम्बा : कहानी शक्तिपीठों की' में माता की 51 शक्तिपीठों की अद्भुत कहानियां हैं जो दर्शकों को मां भगवती के तमाम रूपों से अवगत कराएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस चैनल पर 'जयंति शुक्राचार्य की' और 'जगदम्बा कहानी शक्तिपीठों की', दोनों शो 15 अप्रैल से शुरू

धार्मिक धारावाहिक 'जयंति शुक्राचार्य की' 15 अप्रैल से

नई दिल्ली: अध्यात्मिकता के प्रचार-प्रसार के लिए कात्यायनी चैनल दो धार्मिक 'धारावाहिक जयंति शुक्राचार्य की' और 'जगदम्बा : कहानी शक्तिपीठों की' लेकर आ रहा है. ये धारावाहिक 15 अप्रैल से शुरू होंगे. चैनल के सीईओ रोहित रोहन ने कहा कि ये धारावाहिक लोगों में अध्यात्मिकता के प्रति नई ऊर्जा का संचार करेंगे. 

काले हिरण को आखिर क्‍यों पूज्‍यनीय मानता है बिश्‍नोई समाज?

रोहित रोहन ने बताया कि आज की जीवनशैली में हमारे नवयुवकों में अध्यात्मिकता के प्रति क्रेज कम होता जा रहा है, इसी को देखते हुए हमने हर धर्म को एक समान मानते हुए हर धर्म के प्रति इस तरह के विषय को चुना है.

भगवान शिव शरीर पर क्यों लगाते हैं भस्म?

उन्होंने बताया कि 'जयंति शुक्राचार्य की' की कहानी देवराज इंद्र और दैत्यगुरु शुक्राचार्य के प्रतिशोध की है. और ये प्रतिशोध, प्रेम और युद्ध को एक ही धागे में पिरोते हुए कई दिलचस्प कहानियों को जन्म देता है, और ये कहानियां लोगों को बांधे रखने में मददगार होंगी. 

जानें बिल्लियों से जुड़े अंधविश्वासों का सच, क्यों रास्ता काटने पर रुक जाते हैं लोग...

उन्होंने बताया कि 'जगदम्बा : कहानी शक्तिपीठों की' में माता की 51 शक्तिपीठों की अद्भुत कहानियां हैं जो दर्शकों को मां भगवती के तमाम रूपों से अवगत कराएगी. (इनुपट - आईएएनएस)

टिप्पणियां
देखें वीडियो - हमने पहले पहल भारत माता को कब देखा था, जिस रूप में आज देखते हैं?​




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement