Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

भूमि पेडनेकर बोलीं- शॉर्ट फिल्में सीधे मुद्दे की बात करती हैं

भूमि जल्द ही प्रेम और वासना पर आधारित लघु फिल्म में नजर आएंगी, जिसका निर्देशन जोया अख्तर ने किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भूमि पेडनेकर बोलीं- शॉर्ट फिल्में सीधे मुद्दे की बात करती हैं
नई दिल्ली:

अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि शॉर्ट फिल्मों की खूबी यह होती है कि ये कम समय में सीधे मुद्दे की बात दिखाती हैं. भूमि प्रेम और वासना पर आधारित लघु फिल्म में काम कर चुकी हैं, जिसका निर्देशन जोया अख्तर ने किया है. भूमि से यह पूछे जाने पर कि क्या वह दर्शकों से जुड़ने के लिए फीचर फिल्मों के मुकाबले शॉर्ट फिल्मों को बेहतर मानती हैं तो उन्होंने आईएएनएस को मुंबई से फोन पर बताया, 'नहीं, मुझे नहीं लगता कि कोई भी दूसरे से बेहतर काम करता है. संयोग से फीचर फिल्मों के दर्शकों की संख्या ज्यादा है, तो आप स्वत: ही दर्शकों के बड़े समूह से जुड़ जाते हैं.'

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म 'दम लगाके हईशा' (2014) से बॉलीवुड में आगाज करने वाली भूमि का मानना है कि हर कहानी की अपनी खास जगह होती है. भूमि (27) के मुताबिक, 'हर कहानी को एक निश्चित समयावधि की जरूरत होती है. मुझे लगता है कि हमें कहानी के साथ न्याय करना चाहिए और देखना चाहिए कि यह किस प्रारूप में काम करती है. लेकिन हां, लघु फिल्मों का फायदा यह होता है कि ये कम समय सीमा अवधि की और बात को बिना इधर-उधर घुमाएं सीधे कह देती हैं.'


उन्होंने कहा कि लघु फिल्में ज्यादा प्रभावकारी हैं, लेकिन देश में इन फिल्मों को कम संख्या में दर्शक देखते हैं. हालांकि, इंटरनेट के कारण धीरे-धीरे इसमें बदलाव हो रहा है और इसे भी दर्शक मिल रहे हैं. 
 

 

A post shared by Bhumi Pednekar (@psbhumi) on


भूमि फिलहाल अपनी आगामी फिल्म 'ट्वायलेट एक प्रेम कथा' के प्रचार में व्यस्त हैं. इस फिल्म में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता अक्षय कुमार और दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर भी हैं.
टिप्पणियां

(बॉलीवुड की अन्य बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें) 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... 15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ

Advertisement