Ayurvedic Drinks For Digestion: अपच, कब्ज और एसिडिटी, पेट की हर समस्या के लिए अचूक उपाय हैं ये आयुर्वेदिक ड्रिंक्स!

Drinks For Healthy Digestion: आयुर्वेद बताता है कि प्रोसेस्ड मीट और कोल्ड फूड जैसे खाद्य पदार्थ बिना पके हुए अवशेष बना सकते हैं जो टॉक्सिन्स बनाते हैं और पेट में दर्द का कारण बनते हैं. पाचन संबंधी समस्याओं (Digestive Problems) से निपटने के लिए कुछ घरेलू आयुर्वेदिक ड्रिंक्स के बारे में जानने के लिए नीचे पढ़ें.

Ayurvedic Drinks For Digestion: अपच, कब्ज और एसिडिटी, पेट की हर समस्या के लिए अचूक उपाय हैं ये आयुर्वेदिक ड्रिंक्स!

Ayurvedic Drinks For Digestion: पेट की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए यहां हैं कारगर उपाय

खास बातें

  • पाचन की समस्याओं को दूर करने के लिए घर पर ऐसे बनाएं ड्रिंक्स.
  • ये आयुर्वेदिक ड्रिंक्स पेट की समस्याओं को दूर करने में हैं असरदार.
  • अपच, कब्ज और एसिडिटी की समस्या अक्सर परेशान कर सकती है.

How To Get Rid Of Digestion Problem: अगर पेट की समस्याएं लगातार आपको परेशान कर रही हैं, तो आपको अपच के लिए आयुर्वेदिक उपचार (Ayurvedic Treatment For Indigestion) पर स्विच करना चाहिए. आप जो खाते हैं उसका सीधा असर आपके स्वास्थ्य और चयापचय पर पड़ता है. पेट की समस्याओं में अपच (Indigestion), कब्ज और एसिडिटी अक्सर परेशान करती हैं. डायजेशन पावर (Digestion Power) बढ़ाने के लिए कई उपाय हैं, लेकिन अगर नेचुरल तरीके से पाचन को हेल्दी रखा जाए तो इससे बेहतर और क्या हो सकता है. आपका भोजन पाचन तंत्र को मजबूत कर (Strong Digestion System) सकता है. साथ ही कई बार पाचन समस्याओं का कारण बन सकता है. अपच के लिए आयुर्वेदिक ड्रिंक्स (Ayurvedic Drinks For Indigestion) काफी कारगर हो सकती हैं. आयुर्वेद बताता है कि प्रोसेस्ड मीट और कोल्ड फूड जैसे खाद्य पदार्थ बिना पके हुए अवशेष बना सकते हैं जो टॉक्सिन्स बनाते हैं और पेट में दर्द का कारण बनते हैं.

पाचन समस्याओं (Digestion Problems) को रोकने के लिए आयुर्वेद सुझाव देता है कि आपको केवल भूख लगने पर भोजन करने की आवश्यकता है और भोजन के बीच कम से कम 3 घंटे का अंतराल रखें. इसके साथ ही पाचन तंत्र को इंप्रूव करने के लिए कुछ ड्रिंक्स का सेवन करना भी फायदेमंद हो सकता है. हेल्दी पाचन के लिए आयुर्वेदिक उपाय अपनाना काफी ज्यादा जरूरी है.

पाचन की समस्याओं को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक ड्रिंक्स | Ayurvedic Drinks To Overcome Digestive Problems

1. तुलसी, सौंफ के बीज और कुछ मसाले

सौंफ के बीज, तुलसी के पत्ते और लौंग मिलकर एसिड रिफ्लक्स से निपटने में मदद कर सकते हैं. 3/4 कप पानी में एक चौथाई कप दही डालें और अच्छी तरह मिलाएं. एसिड रिफ्लक्स को कम करने के लिए 1 टीस्पून सेंधा नमक, चुटकी भर जीरा पाउडर, कुछ पिसे हुए अदरक और ताजा धनिया पत्ती डालें. छाछ एसिड रिफ्लक्स के इलाज में भी मदद कर सकता है.

2. अपच के लिए करें ये उपाय

आमतौर पर अपच का कारण बनने वाले खाद्य पदार्थों में डेयरी उत्पाद या चावल, या कच्ची सब्जियां जैसे अनाज शामिल हैं. मूल रूप से, पेट को पचाने के लिए कड़ी मेहनत करने वाली कोई भी चीज अपच का कारण बन सकती है. अपच से राहत पाने के लिए, आप कुछ लहसुन लौंग और तुलसी के पत्तों को 1/4 कप व्हीटग्रास के रस में मिला सकते हैं और दिन में एक बार पी सकते हैं.

3. कब्ज के लिए घी, नमक और गर्म पानी

यह पेय आंतों के अंदर की चिकनाई के लिए फायदेमंद है. इस आयुर्वेदिक टॉनिक में नमक बैक्टीरिया को दूर करने में मदद कर सकता है. घी में ब्यूटिरेट एसिड पाचन में सुधार के लिए एंटी इंफ्लेमेटरी लाभ प्रदान करता है. इसे तैयार करने के लिए, आप 1 और 1/4 कप गर्म पानी में 1 चम्मच ताज़ा घी मिला सकते हैं. इसमें 1/2 नमक डालें और हिलाएं. इस ड्रिंक को धीरे-धीरे पिएं. रात के खाने के एक घंटे बाद इसका सेवन करना प्रभावी होता है.

lbaijn8

Digestion Problem: हेल्दी पाचन के लिए इस घरेलू नुस्खे को जरूर अपनाएं 

4. दस्त के लिए शानदार उपाय

दस्त के लिए लौकी बहुत कारगर हो सकती है. आप इसे टमाटर या स्टू के साथ तैयार करी के साथ सूप में जोड़ सकते हैं और चावल के साथ खा सकते हैं. लौकी में कैलोरी कम, पेट पर प्रकाश और पचाने में आसान है. दस्त से पीड़ित होने पर निर्जलीकरण को रोकने में यह काफी कारगर हो सकती है. तरल पदार्थ और पानी का सेवन सहायक हो सकता है. दस्त के लिए घरेलू आयुर्वेदिक टॉनिक के लिए, आप अदरक को पानी में घोलकर उबाल सकते हैं. इसके बाद एक चुटकी या हल्दी पाउडर मिलाएं.

5. ब्लोटिंग के लिए गर्म पानी और सौंफ के बीज या अदरक

Newsbeep

ब्लोटिंग से जुड़ी समस्याओं से गर्म पानी से प्रभावी तरीके से निपटा जा सकता है. एक गिलास गर्म पानी के साथ सौंफ के बीज, और कुछ अदरक और शहद की एक बूंद प्रभावी रूप से सूजन से निपटने में मदद कर सकती है. इसके अलावा, भोजन के बाद बस सौंफ के बीज चबाने से पाचन में मदद मिल सकती है और गैस और सूजन कम हो सकती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.