नहीं बंद होंगे हवाईअड्डे, DGCA ने एयरपोर्ट बंद करने का आदेश लिया वापस

सुरक्षा के लिहाज से एहतियातन भारत के कई राज्यों के एयरपोर्ट की सेवाओं को रोक दिया गया था लेकिन कुछ ही मिनटों में इस आदेश को वापस ले लिया गया है.

नई दिल्ली:

भारत की ओर से एयर स्ट्राइक का कदम उठाए जाने के बाद पाकिस्तान की तरफ से लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है. ऐसे में दोनों देशों का तनाव अपने चरम पर पहुंच चुका है.  सुरक्षा के लिहाज से एहतियातन भारत के कई राज्यों के एयरपोर्ट की सेवाओं को रोक दिया गया था लेकिन कुछ ही मिनटों में इस आदेश को वापस ले लिया गया है. जानकारी के मुताबिक दिल्ली के नॉर्थ एयर स्पेस को भी खाली कराने का जिक्र किया गया था लेकिन उस आदेश को भी वापस ले लिया गया. 

पुलवामा अटैक के बाद अफगानी शख्स ने उड़ाया पाक का मजाक, फिर बोला- युद्ध हुआ तो हम भारत के साथ

भारत में जम्मू कश्मीर के लेह, जम्मू, श्रीनगर और पठानकोट एयरपोर्ट को हाईअलर्ट पर रखा गया था. सुरक्षा के लिहाज से भारत के 8 एयरपोर्ट की उड़ानों को रोक दिया गया था. जिसमें अमृतसर, जम्मू, श्रीनगर और लेह, कुल्लू मनाली, कांगड़ा, शिमला, और पठानकोट के एयरपोर्ट के नाम शामिल था. आधिकारिक नोटिस के मुताबिक इन एयरपोर्ट को अगले तीन महीने तक के लिए बंद कर दिया गया था. लेकिन अब ऐसा नहीं है. सभी एयरपोर्ट की सेवाएं पहले की तरह ही चलेंगी.   

पुलवामा हमले को लेकर NIA का बड़ा खुलासा, आतंकी ने इस गाड़ी से दिया था वारदात को अंजाम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

भारत के लड़ाकू जेट द्वारा नियंत्रण रेखा पार कर मंगलवार को पाकिस्तान के भीतर एक बड़े आतंकी शिविर को नष्ट करने के बाद ऐसी आशंका है कि उस पार से जवाबी कार्रवाई की जा सकती है. इसी चेतावनी को देखते हुए इन इलाकों को हाई अलर्ट पर रख दिया गया था. 

बता दें कि इससे पहले 14 फरवरी को पुलवामा में हुए एक आत्‍मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थें. हमले की जिम्‍मेदारी पाकिस्‍तान स्‍थ‍ित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद ने ली थी. भारत ने इसके अगले दिन ही सेना को खुली छूट देने की बात कही थी और पाकिस्‍तान से 'मोस्‍ट फेवरेट नेशन' दर्जा वापस ले लिया था. इसके बाद घाटी में हुए सर्च ऑपरेशन में जैश के कई आतंकवादी मारे गए थें. 26 फरवरी की रात में वायु सेना ने अपने असैन्‍य कार्रवाई में पाकिस्‍तान के बालाकोट स्‍थ‍ित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद के कैंप को ध्‍वस्‍त कर दिया था. भारत के इस कार्रवाई को पूरी दुनिया ने समर्थन किया.