JNU हिंसा का एक और वीडियो सामने आया, हमले की तैयारी का है दृश्य

कई छात्र जेएनयू के पेरियार होस्टल हमले की तैयारी कर रहे हैं. वे अपने चेहरे ढंक रहे हैं और डंडे लिए हुए हैं

JNU हिंसा का एक और वीडियो सामने आया, हमले की तैयारी का है दृश्य

वीडियो में छात्रों का समूह हमले की तैयारी करता हुआ दिखाई दे रहा है.

खास बातें

  • वीडियो में एक इंस्पेक्टर और कुछ पुलिस वाले भी
  • पुलिस उग्र छात्रों को रोकते हुई दिख रही
  • एक छात्र के साथ धक्का-मुक्की हो रही
नई दिल्ली:

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हुई हिंसा का एक और वीडियो सामने आया है. यह पेरियार होस्टल में हमले के पहले का वीडियो है. इसमें कई छात्र हमले की तैयारी कर रहे हैं. वे अपने चेहरे ढंक रहे हैं और डंडे लिए हुए हैं. वीडियो में नीली स्वेटर पहने एक इंस्पेक्टर और वर्दी में कुछ पुलिस वाले भी दिख रहे हैं. पुलिस उग्र छात्रों को रोकते हुई दिख रही है. वर्दी में जो पुलिस कर्मी हैं वे छात्रों को समझाकर उनसे डंडे  ले रहे हैं.

वीडियो में एक छात्र के साथ धक्का-मुक्की हो रही है. वह हाथ जोड़ रहा है. यह वीडियो सही है. इसे पुलिस से वेरीफाई किया है. वीडियो 5 जनवरी को 4 बजे के आसपास का है.

जेएनयू हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की SIT ने 'यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट' नाम के एक व्हाट्सएप ग्रुप की पहचान की है. इस ग्रुप में कुल 60 सदस्य शामिल थे. इस ग्रुप के 37 लोगों की पहचान की जा चुकी है. सूत्रों के मुताबिक इस ग्रुप में करीब 10 ऐसे लोग शामिल थे, जो बाहरी हैं. यानी की हिंसा में शामिल यह लोग कैंपस से संबंध नहीं रखते हैं. जांच के सामने आया है कि दोनों ग्रुप यानी लेफ्ट और राइट ने हिंसा में बाहरी लोगों की मदद ली.

JNU को व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी बनाने की कोशिश की जा रही है: कन्हैया कुमार

जेएनयू के छात्रों ने ही बाहरी उपद्रवियों को कैंपस में दाखिल करवाया था. अब इस पूरे मामले में जेएनयू का सिक्योरिटी गार्ड भी शक के घेरे में नजर आ रहा है. वायरल वीडियो में जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आईशी घोष सहित कुल 9 लोगों की पहचान की गई है. इनके खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक, डिजिटल और फॉरेंसिक तथ्य जुटाए जा रहे हैं. इसके बाद ही पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा.

हिंसा में शामिल हो सकते हैं बाहरी लोग, उनका विश्वविद्यालय से कोई लेनादेना नहीं : JNU के वीसी

हालांकि संदिग्धों ने अपनी संलिप्तता से इनकार किया है लेकिन उनका कहना है कि दिल्ली पुलिस का जांच में सहयोग करेंगे. वहीं मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने जेएनयू छात्रों के हिंसा में शामिल होने पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस की जांच में सामने आया है कि जेएनयू के छात्र ही इस पूरे मामले में शामिल हैं, यह जानकर मन व्यथित है.

JNU हिंसा पर दिल्ली पुलिस की थ्योरी सवालों के घेरे में, क्या कुछ छिपाने की हो रही है कोशिश

VIDEO : एसआईटी को जेएनयू हमले में शामिल व्हाट्सऐप ग्रुप मिला

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com