NDTV Khabar

अररिया उपचुनाव : बीजेपी-आरजेडी के बीच मुकाबला, नीतीश का गठबंधन धर्म दांव पर

जेडीयू-बीजेपी गठबंधन खत्म होने के बाद साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने खो दी थी अररिया सीट

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अररिया उपचुनाव : बीजेपी-आरजेडी के बीच मुकाबला, नीतीश का गठबंधन धर्म दांव पर

अररिया में नीतीश कुमार के सामने गठबंधन सरकार में साथी बीजेपी के प्रत्याशी को जिताने की चुनौती है.

खास बातें

  1. पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद आरजेडी विजयी हुआ था
  2. अब दिवंगत आरजेडी सांसद तसलीमुद्दीन के पुत्र सरफराज आलम मैदान में
  3. 2004 और 2009 में बीजेपी के सांसद रहे प्रदीप कुमार फिर उम्मीदवार
नई दिल्ली/ अहमदाबाद: बीजेपी के सामने बिहार की अररिया लोकसभा सीट पर एक बार फिर कब्जा करने की चुनौती है. दूसरी तरफ राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सामने इस सीट को बचाए रखने की चुनौती है. यहां मुकाबला रोचक है. यहां उप-चुनाव आरजेडी के सांसद मोहम्मद तसलीमुद्दीन की मौत होने के कारण हो रहा है. यहां 11 मार्च को मतदान होगा जबकि 14 मार्च को मतगणना होगी.

बीजेपी के प्रदीप कुमार एक बार फिर चुनाव मैदान में हैं. आरजेडी ने दिवंगत सांसद तस्लीमुद्दीन के बेटे सरफराज आलम को उम्मीदवारी दी है. अररिया सीमांचल क्षेत्र का हिस्सा है और यह क्षेत्र मुस्लिम बहुल है. यहां आरजेडी की नजरें मुस्लिमों और यादवों के साथ ही दलितों के वोटों पर हैं. साल 2014 में बीजेपी से दूरी बनाकर जेडीयू ने अकेले चुनाव लड़ा था. इन हालात में मोदी लहर के बावजूद तस्लीमुद्दीन चुनाव जीत गए थे. तस्लीमुद्दीन को 41 प्रतिशत वोट मिले थे.

यह भी पढ़ें : फूलपुर उपचुनाव : 2014 में सपा-बसपा के कुल वोटों से ज्यादा मत मिले थे बीजेपी को, अब कड़ा संघर्ष

अररिया लोकसभा क्षेत्र में मुस्लिम मतदाता 41 प्रतिशत से ज्यादा हैं. जेडीयू से गठबंधन के कारण बीजेपी अब हिंदू मतों का ध्रुवीकरण होने की उम्मीद कर रही है.

यह भी पढ़ें : गोरखपुर उपचुनाव : योगी की सीट पर पहले जैसा 'योग' नहीं, चौंका भी सकते हैं परिणाम

अररिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में छह विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं. इस लोकसभा क्षेत्र की आबादी 15,87, 348 है. साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में 9,75,811 लोगों ने वोट डाले थे. यानी कि करीब 61 फीसदी मतदाताओं ने मतदान किया था. इस चुनाव में आरजेडी के तस्लीमुद्दीन को 4,07,978, बीजेपी के  प्रदीप कुमार सिंह को 2,61, 474, जेडीयू के विजय कुमार मंडल को 2,21,769 और बीएसपी के अब्दुल रहमान को 17, 724 वोट मिले थे. साल 2009 के लोकसभा चुनाव में 2,82, 742 वोट हासिल करके बीजेपी के प्रदीप कुमार सिंह जीते थे. एलजेपी के जाकिर हुसैन खान को 2,60, 240 और कांग्रेस के शकील अहमद खान को 49,649 मत मिले थे.

यह भी पढ़ें : नीतीश कुमार के चुनाव प्रचार पर तेजस्वी का व्यंग्य- 'चच्चा भी गजबे आदमी'

अररिया के उपचुनाव में भले ही बीजेपी चुनाव मैदान में है, लेकिन गठबंधन का धर्म निभा रहे सीएम नीतीश कुमार के लिए भी यह नाक का सवाल है. साल 2004 और 2009 के चुनाव के दौरान नीतीश कुमार का  पिछले कार्यकाल में एनडीए के साथ गठबंधन था. तब अररिया सीट पर बीजेपी जीती थी. बाद में नीतीश कुमार ने आरजेडी से गठबंधन किया और बिहार में सरकार बनाई. इस दौरान साल 2014 के चुनाव में अररिया सीट राजद के खाते में चली गई. अब इस सीट को फिर से हासिल करने की चुनौती बीजेपी के अलावा नीतीश कुमार के सामने भी है.

टिप्पणियां
VIDEO : नीतीश और तेजस्वी की जंग

दूसरी तरफ चारा घोटाले में जेल में बंद आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव और घोटालों को कारण कई मामलों में फंसा उनका परिवार इस चुनाव में जीत के जरिए अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने की जुगत लगा रहा है. आरजेडी इस चुनाव में मुस्लिम, यादव और दलितों के वोटों को एकजुट करने की कोशिश में लगा है. दलितों को आकर्षित करने के लिए हाल ही में आरजेडी में आए पूर्व सीएम जीतनराम मांझी की मदद ली जा रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement