NDTV Khabar

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा, पाकिस्तान आतंकवादी भेजता रहेगा, आप मारोगे, वह और भेज देगा

जब आर्मी चीफ से पूछा गया कि क्या डोकलाम में लड़ाई भी हो सकती थी? तो उन्होंने कहा कि आप इस स्थिति के लिए हमेशा तैयार रहते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा, पाकिस्तान आतंकवादी भेजता रहेगा, आप मारोगे, वह और भेज देगा

कश्मीर में आतंकवाद ख़त्म नहीं हुआ है, बोले आर्मी चीफ बिपिन रावत...

खास बातें

  1. 'इस बार हमारा ज़्यादा फोकस उत्तरी कश्मीर ओर होगा'
  2. 'जो कैसुअल्टीस पाकिस्तान ने झेली है वो हमसे तीन-चार गुना ज़्यादा है'
  3. 'मैं यह कह सकता हूं कि कश्मीर में आतंकवाद ख़त्म नहीं हुआ है'
नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आज दिल्ली में कहा कि तमाम कोशिशों के बावजूद जम्मू और कश्मीर में आतंकवादियों की संख्या और आतंकवाद की घटनाएं नहीं घटी हैं. उन्होंने कहा कि बुरहान वानी के बाद जो हालात बिगड़े थे वह साउथ कश्मीर में बिगड़े थे. इंसर्जेंसी जब बिल्ट अप एरिया में होती है तो बहुत मुश्किल होती है. हमारा ह्यूमन राइट रिकॉर्ड बहुत अच्छा है, अगर आतंकी किसी घर में छुपा होता है तो वह घबराया हुआ होता है जिसके चलते वह फायर करता है और हमारी कैसुअल्टीस हो जाती है.

कश्मीर में सेना प्रमुख बोले- कुरान में अमन के पैगाम की बात खूबसूरत ढंग से की गई है

उन्होंने कहा कि हमने 39 आतंकी ज़िंदा भी पकड़े हैं. हम उनको पूरा मौक़ा देते हैं, संपर्क करते हैं पर मैं यह कह सकता हूं कि कश्मीर में आतंकवाद ख़त्म नहीं हुआ है. इस बार हमारा ज़्यादा फोकस उत्तरी कश्मीर ओर होगा. हम गहन ऑपरेशन बारामूला, हंदवाड़ा, बांदीपुर, पट्टन आदि उत्तरी कश्मीर पर फोकस करेंगे.

टिप्पणियां
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादी लगातार भेजता ही रहेगा, आप जितने मारोगे वह फिर भेज देगा, इसलिए हमने निर्धारित किया कि पाकिस्तानी सेना की उन पोस्ट्स को निशाना बनाया जाए जहां से आतंकवादियों को मदद मिल रही है. हमारा मक़सद पाकिस्तानी पोस्ट्स को बर्बाद करना रहा है ताकि वह दर्द उनको महसूस हो. इसलिए, जो कैसुअल्टीस पाकिस्तान ने झेली है वो हमसे तीन-चार गुना ज़्यादा है.

VIDEO- भारत-चीन सीमा पर हालात सामान्य

जब उनसे पूछा गया कि क्या डोकलाम में लड़ाई भी हो सकती थी? तो उन्होंने कहा कि आप इस स्थिति के लिए हमेशा तैयार रहते हैं. उन्होंने कहा कि हां, ऐसा हो सकता था. यदि यह बढ़ जाता तो ऐसा हो सकता था और हम इसके लिए तैयार थे लेकिन हम इसे इसी इलाके में सीमित रखना चाहते थे क्योंकि यहां के इलाके का भूगोल हमारे पक्ष में था. हम ज़्यादा चिंतित हैं साइबर और इनफार्मेशन वारफेयर के प्रति. कहीं ऐसा न हो कि आपके बैंक अकाउंट से पैसे ही उड़ जाएं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement