मोहन भागवत के बयान पर भड़के AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, पूछा- कौन कुत्ता है और कौन शेर?

भागवत ने कहा, ‘‘हमारे काम के शुरुआती दिनों में जब हमारे कार्यकर्ता हिंदुओं को एकजुट करने को लेकर उनसे बातें करते थे तो वे कहते थे कि ‘शेर कभी झुंड में नहीं चलता’.

मोहन भागवत के बयान पर भड़के AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, पूछा- कौन कुत्ता है और कौन शेर?

AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

खास बातें

  • मोहन भागवत के बयान पर बवाल
  • ओवैसी ने साधा निशाना
  • 'RSS को संविधान पर विश्वास नहीं'
नई दिल्ली:

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी  ने पूछा है कि आखिर कौन कुत्ता है और कौन शेर? ओवैसी ने कहा, 'भारत के संविधान में सबको इंसान माना गया है न कि किसी को कुत्ता या शेर. आरएसएस के सबसे बड़ी दिक्कत है कि आरएसएस को संविधान पर विश्वास नहीं है. आपको बता दें कि  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने हिंदुओं से एक होने की अपील की और कहा कि ‘‘यदि कोई शेर अकेला होता है, तो जंगली कुत्ते भी उस पर हमला कर अपना शिकार बना सकते हैं।’’ शिकागो में आयोजित दूसरी विश्व हिंदू कांग्रेस में कहा कि 2500 प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि हिंदुओं में अपना वर्चस्व कायम करने की कोई आकांक्षा नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘हिंदू समाज तभी समृद्ध होगा जब वह समाज के रूप में काम करेगा.’’ 

मोहन भागवत ने हिंदुओं से एक होने की अपील की, कहा- जंगली कुत्ते अकेले शेर का शिकार कर सकते हैं

भागवत ने कहा, ‘‘हमारे काम के शुरुआती दिनों में जब हमारे कार्यकर्ता हिंदुओं को एकजुट करने को लेकर उनसे बातें करते थे तो वे कहते थे कि ‘शेर कभी झुंड में नहीं चलता’. लेकिन जंगल का राजा शेर या रॉयल बंगाल टाइगर भी अकेला रहे तो जंगली कुत्ते उस पर हमला कर अपना शिकार बना सकते हैं.’’    

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

असदुद्दीन ओवैसी का राहुल गांधी पर निशाना- मैंने मोदी को गले लगाया होता तो मेरे खिलाफ फतवे जारी हो जाते

हिंदू समाज में सबसे अधिक प्रतिभावान लोगों के होने का जिक्र करते हुए आरएसएस प्रमुख ने कहा, ‘‘हिंदुओं का एक साथ आना अपने आप में एक मुश्किल चीज है.’’ उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म में कीड़े को भी नहीं मारा जाता है, बल्कि उस पर नियंत्रण किया जाता है.
न्यूज टाइम इंडिया : ओवैसी को सेना का करारा जवाब, शहीदों का कोई धर्म नहीं होता​