NDTV Khabar

65 सालों से अटल बिहारी वाजपेयी मेरे सबसे करीबी मित्र थे, उनकी बहुत याद आएगी : लाल कृष्ण आडवाणी

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी (LK Advani) ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) को देश के सबसे बड़े राजनेताओं में एक बताया और कहा कि 65 वर्षों के अपने घनिष्ठतम मित्र की बहुत याद आएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
65 सालों से अटल बिहारी वाजपेयी मेरे सबसे करीबी मित्र थे, उनकी बहुत याद आएगी : लाल कृष्ण आडवाणी

अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी.

नई दिल्ली: भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी (LK Advani) ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) को देश के सबसे बड़े राजनेताओं में एक बताया और कहा कि 65 वर्षों के अपने घनिष्ठतम मित्र की बहुत याद आएगी. आडवाणी ने अपने शोक संदेश में कहा कि वाजपेयी के शानदार नेतृत्व कौशल, वाक कला, देशभक्ति और इन सबसे ऊपर दया, मानवीयता जैसे उनके गुण और विचारधारा में मतभेद के बावजूद विरोधियों का दिल जीतने की कला का मेरे ऊपर गहरा असर रहा.

यह भी पढ़ें : अटल बिहारी वाजपेयी ने किताब के लोकार्पण पर दी थी हिदायत, 'राजनेताओं के चक्कर में मत पड़ो बेटा...'

उन्होंने कहा, 'आरएसएस के प्रचारक से लेकर भारतीय जनसंघ के बनने तक, आपातकाल के दौरान के काले महीनों से लेकर जनता पार्टी के गठन तक और बाद में 1980 में भारतीय जनता पार्टी के उभरने के दौरान उनके साथ लंबे जुड़ाव की यादें हमारे साथ रहेंगी.' आडवाणी ने कहा कि गहरा दुख और उदासी व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं.

यह भी पढ़ें : बीजेपी मुख्यालय से निकलेगी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा

उन्होंने कहा, 'अटल जी को केंद्र में गैर कांग्रेसी गठबंधन सरकार को स्थायित्व देने में उनकी भूमिका से लेकर 6 वर्षों तक उनके साथ उपप्रधानमंत्री के तौर पर काम करने के दिनों के लिए उन्हें याद करूंगा. मेरे वरिष्ठ के रूप में उन्होंने हर तरीके से हमेशा मुझे प्रोत्साहित किया और मेरा मार्गदर्शन किया.' वाजपेयी सरकार में उप प्रधानमंत्री रहे आडवाणी ने कहा कि वह उनकी कमी महसूस करेंगे.
 
बता दें कि भारतीय राजनीति के अजातशत्रु कहे जाने वाले बीजेपी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में गुरुवार को निधन हो गया. वह बीते 11 जून से एम्स में भर्ती थे. वाजपेयी ने गुरुवार शाम 5:05 बजे अंतिम सांस ली. बुधवार को उनकी हालत गंभीर हो गई और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था.

टिप्पणियां
VIDEO: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन


वाजपेयी को गुर्दा (किडनी) की नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. मधुमेह पीड़ित 93 वर्षीय भाजपा नेता का एक ही गुर्दा काम करता था. वाजपेयी के निधन के तुरंत बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement