जब रावण का संहार करने से पहले टूटा धनुष और पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे पर आई मुस्कान...

रावण का प्रतीकात्मक वध करने के लिए मोदी ने धनुष की प्रत्यंचा पर तीर रखकर चलाने की कोशिश की लेकिन धनुष टूट गया

जब रावण का संहार करने से पहले टूटा धनुष और पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे पर आई मुस्कान...

पीएम नरेंद्र मोदी ने दशहरा पर्व पर रावण के पुतले के दहन के लिए बाण चलाने की कोशिश की तो धनुष टूट गया.

खास बातें

  • धनुष टूटने पर पीएम मोदी ने तीर का उपयोग भाले की तरह किया
  • दिल्ली के लाल किला मैदान पर हुआ रावण दहन का आयोजन
  • राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि भगवान राम मानवता के लिए आदर्श
नई दिल्ली:

दिल्ली में लाल किले के मैदान पर दशहरा पर्व पर पीएम नरेंद्र मोदी ने रावण के पुतले का दहन किया. इस मौके पर प्रतीक रूप से रावण का संहार करने के लिए उन्होंने धनुष की प्रत्यंचा पर तीर रखकर चलाने की कोशिश की लेकिन धनुष टूट गया. यह वाकया होने पर वहां धनुष-बाण लाने वाला व्यक्ति बौखला गया और पीएम मोदी के चेहरे पर मुस्कान तैर गई.

जब धनुष से तीर छोड़ना संभव नहीं हो सका तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तुरंत तीर का भाले के रूप में इस्तेमाल किया और उसे रावण के पुतले की तरफ फेंक दिया. इस दौरान वे मुस्कराते रहे. दशहरा पर्व पर आयोजित इस समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मौजूद थे.

यह भी पढ़ें : हमें समाज और जीवन में व्याप्त रावण को खत्म करने की कोशिश करनी चाहिए : पीएम मोदी

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे सभी उत्सवों का मकसद समाज में फैली विकृतियों को मिटाना है.  हमारे सभी उत्सव खेत खलिहानों से जुड़े हुए हैं. हमारे सभी उत्सव सांस्कृतिक परंपराओं से जुड़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि मैं सभी से 2022 तक राष्ट्र के लिए सकारात्मक योगदान के संकल्प का आग्रह करता हूं. राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि भगवान राम के आदर्श आज भी मानवता के लिए बेहद प्रासंगिक हैं.

Newsbeep

VIDEO : नरेंद्र मोदी ने धनुष के बिना छोड़ा तीर..

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लाल किला मैदान पर लगाया गया रावण का पुतला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहुंचने से कुछ घंटे पहले तेज हवा से गिर गया. यह करीब 80 से 90 फुट ऊंचा पुतला था जो तेज हवा चलने पर गिर गया. इसके बाद पुतले को तुरंत फिर से खड़ा कर दिया गया.