NDTV Khabar

बेंगलुरु : हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड के कर्मचारियों की हड़ताल जारी

स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस और लड़ाकू हेलीकॉप्टर बनाने वाले हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड के कर्मचारी प्रबंधन से नाराज

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेंगलुरु : हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड के कर्मचारियों की हड़ताल जारी

हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड के कर्मचारी तीन दिन से हड़ताल कर रहे हैं.

खास बातें

  1. अधिकारियों की तरह ही भत्ते और सुविधाएं देने की मांग
  2. प्रबंधन भत्ते में 11 और सुविधाओं में 22 फीसदी वृद्धि को तैयार
  3. भत्ते में 15 फीसदी और अन्य सुविधाओं में 35 फीसदी वृद्धि की मांग
बेंगलुरु:

हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड (HAL) के प्रबंधन और वर्कर्स यूनियन के बीच जारी गतिरोध की वजह से आज तीसरे दिन भी हड़ताल देश के तकरीबन सभी यूनिटों में जारी रही. इस हड़ताल को लेकर बेंगलुरु में प्रबंधन ने कर्मचारी यूनियन पर दोष मढ़ा. इस पर यूनियन ने आरोप लगाया कि प्रबंधन गुमराह करने की कोशिश कर रहा है. यह मामला वेज रिवीजन का है. स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस और लड़ाकू हेलीकॉप्टर बनाने वाले हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड के कर्मचारी प्रबंधन से इतने नाराज़ हैं कि उन्होंने कामकाज ठप कर दिया है.

हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड (HAL) के कर्मचारियों मांग है कि अधिकारियों की तरह ही उन्हें भी भत्ते में 15 फीसदी वृद्धि और अन्य सुविधाओं में 35 फीसदी की बढ़ोत्तरी की जाए. लेकिन प्रबंधन भत्ते में 11 फीसदी और अन्य सुविधाओं में 22 फीसदी बढ़ोत्तरी देने के लिए तैयार है.

एचएएल कर्मचारी संघ के महासचिव सूर्ये देवरा चंद्रशेखर ने कहा कि 'हम अपनी मांग से पीछे हटने वाले नहीं हैं.  हमारी मांग 15 और 35 फीसदी की है. हमारी मांग जायज़ है. दूसरे पब्लिक और डिफेंस सेक्टर में कर्मचारियों के ये भत्ते मिल रहे हैं.'


एयरफोर्स के जंगी बेड़े में अब भारत का अपना लड़ाकू विमान 'तेजस' भी शामिल, मिला ऑपरेशनल क्लियरेंस

इस हड़ताल की वजह से उन सुरक्षा एजेंसियों के कामकाज पर भी असर पड़ रहा है जहां एचएएल के हेलीकॉप्टर इस्तेमाल होते हैं, क्योंकि कर्मचारी संघ के मुताबिक यहां इंजीनियर भी हड़ताल पर चले गए हैं. अब तक प्रबंधन और हड़ताली कर्मचारियों के बीच 15 मीटिंगें हो चुकी हैं लेकिन सभी बेनतीजा रहीं.

तेजस जैसा उन्नत विमान बनाने वाले HAL के पास कर्मचारियों का वेतन देने के लिए पैसे नहीं

हड़ताल कर रहे कर्मचारियों का दावा है कि प्रबंधन सही तस्वीर नहीं दिख रहा. उनका कहना है कि पहले दौर के रिवीजन के बाद का 43 महीनों का भत्ता और दूसरे रिवीजन के बाद का 33 महीनों का भत्ता नहीं मिला है. और इस बीच कई कर्मचारी रिटायर भी हो गए.

फाइटर प्लेन क्रैश होने पर पूर्व नेवी चीफ ने HAL की गुणवत्ता पर उठाए सवाल, कहा- साधारण पायलट नहीं उड़ा रहे थे मिराज, अक्सर जवानों को गंवानी पड़ी है जान

जिन हाथों ने तेजस को आसमान की ऊंचाइयों तक पहुंचाया वे आज रुके हुए हैं. प्रबंधन और कर्मचारी संघ की तकरार का असर रक्षा उत्पादन पर हो रहा है.

VIDEO : विमान बनाने वाली सरकारी कंपनी HAL में हड़ताल

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement