NDTV Khabar

सपा सांसद आजम खान माफी मांग कर बैठे ही थे कि रमा देवी को आ गया गुस्सा, बोलीं-खबरदार!

आजम खान की माफी के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने मामले का पटाक्षेप करते हुए सभी सांसदों को नसीहत दी. उन्होंने कहा कि यह सदन सभी का है और सभी के सहयोग से चलता है. सदस्यों को ऐसी भाषा से दूर रहना चाहिए ताकि सदन की गरिमा को नुकसान न पहुंचे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

असंसदीय भाषा इस्तेमाल करने के मामले में जब  समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान  लोकसभा में बीजेपी सांसद रमा देवी से माफी मांग रहे थे तो उस समय सांसद रमा देवी को गुस्सा आ गया और कहा खबरदार. उस समय अखिलेश यादव कुछ कहने के लिए उठे ही थे कि रमा देवी ने उनसे कहा आप उनका बचाव क्यों कर रहे हैं. इस के बाद रमा देवी ने कहा आजम खान का बयान देश की सभी महिलाओं का अपमान है. आजम खान की आदत बिगड़ी हुई है. रमा देवी ने कहा, ' आजम खान के बयान से देश के महिला और पुरुष दोनों को बुरा लगा है. यह बात वह नहीं समझेंगे. इनकी आदत बिगड़ी हुई है. जरूरत से ज्यादा बिगड़ी हुई है. मैं यहां ऐसे कमेंट सुनने नहीं आई हूं.' वहीं आजम खान की माफी के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने मामले का पटाक्षेप करते हुए सभी सांसदों को नसीहत दी. उन्होंने कहा कि यह सदन सभी का है और सभी के सहयोग से चलता है. सदस्यों को ऐसी भाषा से दूर रहना चाहिए ताकि सदन की गरिमा को नुकसान न पहुंचे.

BJP सांसद से 'अभद्र' बात कहने पर आजम खान ने मांगी माफी, रमा देवी बोलीं- उनकी आदत बिगड़ी हुई है


वहीं आजम खान ने माफी मांगते हुए कहा, 'मेरी ऐसी कोई भावना चेयर के प्रति नहीं थी और न कभी हो सकती है. मेरे भाषण और आचरण को सारा सदन जानता है. इसके बावजूद भी चेयर को ऐसा लगता है कि मेरे से कोई गलती हुई तो मैं उसकी क्षमा चाहता हूं'. इससे पहले सपा नेता अखिलेश यादव, आजम खान और बीजेपी सांसद रमा देवी ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के साथ मुलाकात भी थी. इसी मीटिंग में फैसला हुआ कि आजम खान को सदन में माफी मांगनी चाहिए. 

आजम के बचाव में आए बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री, पूछा- मां-बेटे को किस करती है तो क्या यह...? देखें VIDEO

टिप्पणियां

गौरतलब है कि लोकसभा में चर्चा के दौरान आजम खान ने रमा देवी को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. जिसका सभी सांसदों ने मिलकर विरोध किया और आजम खान के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. जिस समय आजम खान ने टिप्पणी की थी उस समय रमा देवी पीठासीन सभापति की कुर्सी पर बैठी थीं.

खबरों की खबर: आजम विवाद में क्या देश के सामने एक मिसाल कायम करना ज़रूरी ?​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement