NDTV Khabar

राज्यसभा में बहुमत के लिए BJP कर रही 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल, कई महत्वपूर्ण बिल पास करवाने पर नजर...

भारतीय जनता पार्टी (BJP) राज्यसभा में बहुमत हासिल करने के लिए 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राज्यसभा में बहुमत के लिए BJP कर रही 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल, कई महत्वपूर्ण बिल पास करवाने पर नजर...

हाल ही में टीडीपी के चार राज्यसभा सांसद बीजेपी में हुए थे शामिल.

खास बातें

  1. राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी की संख्या 75 हो गई है
  2. एनडीए की संख्या 110, लेकिन अब भी बहुमत से दूर
  3. बीजेपी बहुमत के लिए कर रही 'पिछले दरवाजे' का इस्तेमाल
नई दिल्ली:

भारतीय जनता पार्टी (BJP) राज्यसभा में बहुमत हासिल करने के लिए 'पीछे के दरवाजे' का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रही है. पहले टीडीपी (TDP) और अब इंडियन नेशनल लोक दल (INLD) के सांसद को बीजेपी में शामिल करवा लिया गया है. इस तरह बीजेपी की संख्या सदन में सबसे ज़्यादा 75 और एनडीए की 110 पहुंच गई है, हालांकि बहुमत से एनडीए अब भी दूर है. उसे उम्मीद है कि कुछ निर्गुट दलों जैसे टीआरएस, बीजेडी और वायएसआर कांग्रेस की मदद से वह उन तमाम बिलों को पारित करा लेगी जो लंबे समय से अटके हुए हैं. सरकार का इरादा इस सत्र में तीन तलाक बिल को पारित कराने का नहीं है.

यह भी पढ़ें: TDP सांसदों के शामिल होने से क्या राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास करवा पाएगी BJP? जानिये क्या कहते हैं आंकड़े... 


इंडियन नेशनल लोक दल के राज्यसभा के इकलौते सांसद रामकुमार कश्यप बुधवार को बीजेपी में शामिल हो गए. उन्हें बीजेपी संसदीय दल में भी शामिल कर लिया गया है. इस तरह बीजेपी की संख्या 75 पहुंच गई. इससे पहले टीडीपी के चार सांसद भी बीजेपी में शामिल हो गए थे. अगर बीजेपी के सहयोगी दलों को मिलाएं तो एनडीए राज्यसभा में 110 के आंकड़े तक पहुंच गया है. हालांकि उसे टीआरएस के 6, बीजेडी के 5, वायएसआर के 2 और नगा पीपुल्स फ्रंट के एक सांसद के समर्थन का भरोसा है. यह संख्या 14 है और इसे मिला कर एनडीए को राज्यसभा में बहुमत मिल जाता है.

यह भी पढ़ें: TDP के राज्यसभा सदस्य बीजेपी में शामिल हुए, तो मायावती बोलीं- 'पहले वे माल्या थे, अब दूध के धुले हो गए'

टिप्पणियां

राज्यसभा में बहुमत न होने के कारण पिछले पांच साल में एनडीए कई महत्वपूर्ण बिल राज्यसभा में पारित नहीं करवा सका था. यहीं नहीं, ऐसे कई मौके आए जब विपक्ष ने अपने संख्या बल के कारण एनडीए को झुकने पर मजबूर किया. राष्ट्रपति के अभिभाषण में संशोधन तक विपक्ष ने करवाया. बीजेपी अब ऐसे हालात दोबारा नहीं बनने देना चाहती है.

VIDEO: टीडीपी के राज्यसभा सांसदों के बीजेपी में शामिल होने के सियासी मायने



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement