गुलाम नबी आजाद बोले- चिट्ठी भेजने से पहले सोनिया गांधी के स्वास्थ्य की जानकारी ली गई थी

सीडब्ल्यूसी की बैठक में मौजूद राहुल गांधी ने चिट्ठी भेजे जाने को लेकर गुस्सा जताया. उन्होंने कहा कि जिस वक्त पत्र भेजा गया उस समय सोनिया गांधी बीमार थीं.

गुलाम नबी आजाद बोले- चिट्ठी भेजने से पहले सोनिया गांधी के स्वास्थ्य की जानकारी ली गई थी

नई दिल्ली :

कांग्रेस नेताओं की ओर से सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को भेजी गई चिट्ठी को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने तीखी आलोचना की है. राहुल गांधी ने सोमवार को हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में चिट्ठी की टाइमिंग को लेकर सवाल उठाए हैं. राहुल गांधी की आलोचना पर गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने जवाब देते हुए कहा कि यह पत्र उस समय भेजा गया था कि जब 73 वर्षीय सोनिया गांधी का स्वास्थ्य ठीक नहीं था. 

सीडब्ल्यूसी की बैठक में मौजूद राहुल गांधी ने चिट्ठी भेजे जाने को लेकर गुस्सा जताया. उन्होंने कहा कि जिस वक्त पत्र भेजा गया उस समय सोनिया गांधी बीमार थीं. उन्होंने पत्र के समय पर सवाल उठाते हुए कहा कि 'जब कांग्रेस मध्य प्रदेश और राजस्थान के सियासी संकट का सामना कर रही थी, जब अध्यक्ष बीमार थीं, तब ही चिट्ठी क्यों भेजी गई.' 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य आजाद ने एनडीटीवी से बातचीत में सफाई देते हुए कहा कि पत्र भेजने से पहले उन्होंने सोनिया गांधी के निजी सचिव से दो बार बात की थी. उन्होंने कहा, "मुझे बताया गया कि वह नियमित जांच के लिए अस्पताल में हैं. फिर भीह हमने पत्र भेजने से पहले उनके (सोनिया गांधी) घर लौटने तक का इंतजार किया." 

सोनिया गांधी पिछले महीने के अंत में अस्पताल में भर्ती हुई थी और अगस्त की शुरुआत में डिस्चार्ज होकर वापस लौटी थीं. 

Newsbeep

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कुछ दिन बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने कॉल किया और कहा कि वह खराब स्वास्थ्य की वजह से पत्र का जवाब नहीं दे सकीं. आजाद ने कहा, "मैंने सोनिया जी से कहा था, आपका स्वास्थ्य सबसे ऊपर है, बाकी चीजों के लिए इंतजार किया जा सकता है. उन्होंने दावा किया कि राहुल गांधी ने उनकी बात सुनी और उनके जवाब से हम "संतुष्ट" थे. 

वीडियो: CWC बैठक में गुलाम नबी आजाद ने की इस्तीफे की पेशकश

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com