चीन की चेतावनी-सिक्किम में जारी तनातनी युद्ध में हो सकती है तब्‍दील

उसमें भारत को आक्रामक बताते हुए कहा जा रहा है कि इस भारतीय कदम से युद्ध छिड़ सकता है.

चीन की चेतावनी-सिक्किम में जारी तनातनी युद्ध में हो सकती है तब्‍दील

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

खास बातें

  • सिक्किम क्षेत्र में भारत-चीन के बीच बढ़ रही तनातनी
  • इस क्षेत्र में चीन एक सड़क का निर्माण कर रहा
  • भारत और भूटान ने इस पर जताया ऐतराज

पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में जारी तनातनी के बीच चीन ने अब अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर प्रोपेगेंडा का काम भी शुरू कर दिया है. उसमें भारत को आक्रामक बताते हुए कहा जा रहा है कि इस भारतीय कदम से युद्ध छिड़ सकता है. दरअसल सारा मामला भूटान के डोकलाम क्षेत्र में चीनी निर्माण कार्य से जुड़ा है. भारत और भूटान ने इसका विरोध किया है. चीन इस बात से ज्‍यादा चिंतित है कि भारत की शह पर भूटान जैसा छोटा देश भी उसका विरोध कर रहा है. दरअसल अब अपनी प्रोपेगेंडा नीति के तहत चीन अपने विदेशी राजनयिक मिशनों के माध्‍यम से अंतरराष्‍ट्रीय जगत में अपनी बात रखने की कोशिश कर रहा है.

इस बीच भारत ने कहा है कि हालिया डोकलाम विवाद को लेकर चीन का रुख असामान्य रूप से आक्रामक है. विदेश सचिव एस जयशंकर ने मंगलवार को एक संसदीय समिति को यह जानकारी दी है. विदेश मामलों पर समिति को जानकारी दे रहे जयशंकर ने हालांकि कहा कि भारत तनाव कम करने के लिए राजनयिक माध्यम से चीन से बातचीत कर रहा है.

यह भी पढ़ें 
चीन के भीतर उठी आवाज, 'भारतीय सैनिकों को तुरंत खदेड़ा जाना चाहिए' : चीनी मीडिया
चीन मान ले कि भारत को महत्व देना जरूरी है : पूर्व अमेरिकी राजनयिक निशा देसाई ने दी सलाह
चीन के मुद्दे पर सरकार को समय देने के मूड में विपक्ष, संसद में फिलहाल नहीं उठाएगा डोकलाम मुद्दा

इस बैठक में मौजूद करीब 20 सदस्यों में से कुछ ने इस बारे में संवाददाताओं को बताया. विदेश सचिव ने समिति को बताया कि सीमा को लेकर भारत और चीन ने अपनी-अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है लेकिन वे उसका गलत अर्थ लगा रहे हैं, जिसे भारत स्पष्ट करने की कोशिश कर रहा है. उन्होंने कहा कि एक एंग्लो-चीनी समझौते के अनुसार वर्ष 1895 से अब तक भारत के रुख में कोई परिवर्तन नहीं आया है.

वीडियो

 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com