मनमोहन सिंह के खिलाफ पीएम मोदी की टिप्पणी को लेकर संसद में 'संग्राम', जेटली निकालेंगे समाधान

इस मुद्दे पर जारी गतिरोध को दूर करने के लिए सदन के नेता अरुण जेटली कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बैंठक करेंगे ताकि इस मुद्दे का समाधान निकाला जा सके. 

मनमोहन सिंह के खिलाफ पीएम मोदी की टिप्पणी को लेकर संसद में 'संग्राम', जेटली निकालेंगे समाधान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • गुजरात चुनाव के दौरान पीएम मोदी के दिए बयान पर हंगामा
  • अरुण जेटली विपक्ष के नेताओं संग गतिरोध दूर करने को बैठक करेंगे
  • संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि हंगामा करना बेहद निंदनीय है
नई दिल्ली:

गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पर की गई टिप्पणी को लेकर मंगलवार को संसद में जमकर हंगामा हुआ. संसद के दोनों सदनों में कांग्रेस और विपक्षी सदस्यों ने एक बार फिर इस मुद्दे पर जमकर हंगामा किया. इस मुद्दे पर जारी गतिरोध को दूर करने के लिए सदन के नेता अरुण जेटली कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बैंठक करेंगे ताकि इस मुद्दे का समाधान निकाला जा सके. 

यह भी पढ़ें : स्‍पेशल कोर्ट के मुद्दे पर बोले जेटली- कोई कैसे कह सकता है जल्‍दी नहीं निपटने चाहिए आपराधिक मामले

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि यह बेहद निंदनीय है कि कांग्रेस सदस्य छद्म कार्यवाही चलाने का प्रयास कर रहे हैं और आसन की अनुमति के बिना अपनी बात रख रहे हैं. शून्यकाल के दौरान कांग्रेस सदस्य आसन के समीप आकर अपनी बात रख रहे थे और नारेबाजी कर रहे थे. मल्लिकार्जुन खड़गे को भी कुछ कहते हुए देखा गया, लेकिन उनकी बात सुनी नहीं जा सकी. कांग्रेस सदस्य बार-बार अध्यक्ष से अपनी बात रखने की अनुमति देने का आग्रह कर रहे थे.
कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि यह तो शून्यकाल है. शून्यकाल में बात रखने की अनुमति देने में क्या हर्ज है. उन्होंने कहा कि हमें अपनी बात रखने की अनुमति दी जाए. एक पूर्व प्रधानमंत्री का अपमान हुआ है. यह गंभीर मामला है. अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि रोज-रोज इस तरह से सदन के कार्य में बाधा डालना ठीक नहीं है.

यह भी पढ़ें : शरद यादव ने कहा- विरोधी नहीं चाहते कि मैं संसद में देशहित के मुद्दे उठाऊं

इससे पहले शून्यकाल शुरू होने पर अध्यक्ष ने आवश्यक कागजात सभापटल पर रखवाए और कांग्रेस सदस्यों के शोर शराबे के दौरान ही कार्यवाही आगे बढ़ाया. सदन में शून्यकाल के दौरान आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी भी मौजूद दे. अपनी बात रखने की अनुमति नहीं दिए जाने पर कांग्रेस सदस्यों ने कहा कि यह उचित नहीं है कि आप बोलने की अनुमति नहीं दे रही हैं. इसके बाद शून्यकाल के बीच ही कांग्रेस के सांसदों ने वॉकआउट कर दिया. इस दौरान, संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के सांसदों ने आज जो किया है वह शर्मनाक और निंदनीय है. वे एक मुद्दे को उठाते हुए आसन के समीप आए और उन्होंने छद्म कार्यवाही चलाने का प्रयास किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : मनमोहन सिंह पर लगे आरोप पर राज्‍यसभा में हंगामा

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के सांसदों ने एक के बाद एक बोलकर आसन की अवहेलना की. कुमार ने कहा कि सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे इतने अनुभवी होने के बाद भी आसन की अनुमति के बिना किसी विषय पर अपना भाषण पूरा पढ़ने का प्रयास कर रहे थे. हम इसकी घोर निंदा करते हैं. उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जो पार्टी 70 साल तक सत्ता में रही हो, वह आसन का इस तरह अपमान कर रही है.