दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज कराया

Delhi Hospital: दिल्ली के निजी अस्पताल सर गंगाराम हास्पिटल के खिलाफ सरकारी आदेश की अवहेलना का प्रकरण दर्ज, सैंपल लेने के लिए RT PCR ऐप का इस्तेमाल नहीं हो रहा था

नई दिल्ली:

Delhi Coronavirus: दिल्ली सरकार ने निजी अस्पताल सर गंगाराम अस्पताल (Sir Gangaram Hospital) के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है. दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सेक्रेटरी की शिकायत पर यह मामला दर्ज किया गया है. अस्पताल के खिलाफ सरकारी आदेश की अवहेलना का प्रकरण दर्ज किया गया है.

शिकायत के मुताबिक कोरोना वायरस (Coronavirus) का टेस्ट करने के लिए जरूरी है कि सैंपल RT PCR ऐप के जरिए ही लिए जा सकते हैं. जबकि पाया गया है कि गंगाराम अस्पताल में 3 जून को भी RT PCR ऐप का इस्तेमाल नहीं हो रहा था. लिहाजा आईपीसी की धारा 188 के तहत सरकारी आदेश की अवहेलना करने का मामला दर्ज किया जाए. 

RT-PCR ऐप के जरिए ही लैब सैंपल ले सकते हैं जिससे कोरोना संबंधित डाटा रियल टाइम में सरकार के डेटाबेस में आ सके और कोई दोहराव या गलती न हो.

इससे पहले आज दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने प्राइवेट अस्पतालों को फटकार लगाई. डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने प्राइवेट अस्पतालों को चेतवानी देते हुए कहा कि आप गलत हरकत कर रहे हैं. दिल्ली के सीएम ने कहा कि अस्पताल पहले शिकायत करते थे कि बेड नहीं लेकिन ज्यादा कहने पर 20 से 50 हजार की मांग करते थे. उन्होंने कहा ऐसी ही शिकायतों के समाधान के लिए दिल्ली सरकार ने ऐप लॉन्च किया. हमने ऐप में सारी जानकारी डाल दी कि कहां बेड खाली हैं और कहां नहीं, लेकिन लोग ऐसे टूट पड़े जैसे कि हमने यह जानकारी देकर गड़बड़ी कर दी. 

न्यूज चैनल का हवाला देते हुए सीएम ने कहा कि एक न्यूज एंकर लाइव कार्यक्रम में प्राइवेट अस्पताल को फोन करता है, अस्पताल उसे कहता है कि दाखिले के एवज में पैसों की मांग करता है. सीएम के अनुसार कुछ लोगों का माफिया है जिसको तोड़ने में थोड़ा समय लग रहा है. कुछ चंद अस्पताल इतने ताकतवर हो गए हैं कि उनकी सभी पार्टियों में पहुंच है. वह कह रहे हैं कि हम मरीज नहीं लेंगे तो मैं कह रहा हूं कि मरीज तो लेने पड़ेंगे आपको. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि आपको सस्ती दर पर जमीन इसलिए दी गई थी ताकि आप जनता की सेवा करें. 

अरविंद केजरीवाल ने प्राइवेट अस्पतालों से सख्त लहजे में कहा कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा, इस गुमान में मत रहना कि दूसरी पार्टी में बैठा कोई नेता आपका आका आपको बचा लेगा. कल से हम एक-एक अस्पताल के मालिक को बुला रहे हैं सबसे पूछा जा रहा है. अस्पतालों को कहा गया है कि 20 सीसी बेड रिजर्व करो. उन्होंने कहा कि कुछ अस्पतालों की समस्या सही होती है, हम उसको मान लेते हैं. लेकिन कोरोना वायरस मरीजों का इलाज करना पड़ेगा, इसमें कोई समझौता नहीं होगा. मुझे खुशी है कि न्यूज़ चैनल वाले और अखबार वाले 11 अस्पतालों को फोन करके पूछ रहे हैं कि बेड है या नहीं, इससे फायदा भी हो रहा है.

VIDEO : अस्पतालों में बेड की ब्लैक मार्केटिंग रोकने के लिए ऐप लॉन्च

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com