JNU हिंसा मामले में क्राइम ब्रांच ने छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष समेत नौ से की पूछताछ

क्राइम ब्रांच की टीम ने सोमवार से इस मामले में छात्रों से पूछताछ का दौर भी शुरू कर दिया है. पहले चरण में 9 छात्रों से पूछताछ की गई, जिनमें छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल थीं.

JNU हिंसा मामले में क्राइम ब्रांच ने छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष समेत नौ से की पूछताछ

जेएनयू हिंसा को लेकर क्राइम ब्रांच ने की पूछताछ

नई दिल्ली:

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU)में पांच जनवरी को हुई हिंसा मामले को लेकर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जांच शुरू कर दी है. क्राइम ब्रांच की टीम ने सोमवार से इस मामले में छात्रों से पूछताछ का दौर भी शुरू कर दिया है. पहले चरण में 9 छात्रों से पूछताछ की गई, जिनमें छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल थीं. आइशी के अलावा वासकर विजय और पंकज मिश्रा से भी पुलिस ने पूछताछ की है. बता दें कि दिल्ली पुलिस ने इस पूरे मामले में अभी तक 46 लोगों को नोटिस दिया है. इनमें से 36 लोग यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट के ग्रुप के सदस्य हैं. पांच जनवरी की हिंसा को लेकर सोशल मीडिया पर उपल्बध वीडियो की भी जांच कर जा रही है. इन वीडियो को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने फेसबुक, गूगल और व्हाट्सएप को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. हाईकोर्ट ने यह जवाब तीन प्रोफेसरों की याचिका पर मांगा है.

दिल्ली पुलिस की जांच से JNU हिंसा के गुनहगार पकड़े जाएंगे: स्मृति ईरानी

उधर, जेएनयू टीचर्स एसोसिएशन का प्रतिनिधि मंडल अध्यक्ष प्रो डी के लोबियाल के नेतृत्व में सोमवार को शिक्षा सचिव अमित खरे से मिलने गया. मांग वीसी को पद से हटाने की की गईं. साथ ही, प्रशासन के आदेशानुसार सोमवार से क्लास शुरू होनी थी पर शिक्षकों और छात्र संघ ने इसका बहिष्कार किया और हड़ताल पर रहे. छात्र संघ का कहना है कि होस्टल फीस बढ़ोतरी में एक भी बढ़ा पैसा हम नहीं देंगे. 

JNU हिंसा मामले में जिन 9 छात्रों की पहचान हुई उनसे सोमवार से दिल्ली पुलिस करेगी पूछताछ

इन सब के बीच, जेएनयू वीसी एम जगदीश कुमार ने मीडिया को जानकारी दी कि आज से क्लास शुरू हो गए हैं. विंटर सेमेस्टर का ये पहला दिन है. उन्होंने बताया कि 50 फीसदी से ज़्यादा छात्र अब तक हॉस्टल का बकाया दे चुके हैं और रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं. उन्होंने सभी छात्रों से अपील की है कि जिन्होंने अभी तक रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया है वह जल्दी करवा लें.

वामपंथी झूठ का सहारा लेकर जेएनयू में हिंसा का माहौल बना रहे हैं : योगी

बता दें कि जेएनयू हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस ने दौलतराम कॉलेज की एक लड़की को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा है. पुलिस को शक है कि यह वही लड़की हो सकती है जो जिसकी नकाब पहने तस्वीर सामने आई थी. हालांकि पुलिस का कहना था कि  लड़की का चेहरा नहीं दिख रहा इसलिए पूछताछ के बाद पता चलेगा कि लड़की वो है या नहीं. जिस लड़की को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा गया है उससे इसी हफ्ते पूछताछ होनी है. पुलिस इसके अलावा वॉट्स एप ग्रुप 'यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट' में  शामिल 37 लोगों को भी पूछताछ के लिए नोटिस जारी किया था. पुलिस की एसआईटी यह पूछताछ आज से शुरू कर रही है. हालांकि इनमें जिन छात्राओं से पूछताछ होनी है उनको एसआईटी के ऑफिस नहीं आना होगा. महिला अधिकारी उनसे बताई जगह पर पूछताछ करने जाएंगी. वीडियो के जरिये जिन 9 छात्र छात्राओं की पहचान हुई थी,उनसे भी आज से पूछताछ होगी. 

JNUSU का आरोप, पुलिस को दी गई थी हिंसा की सूचना, मैसेज पढ़ने के बावजूद अनदेखी की

दूसरी ओर इसी मामले में कांग्रेस की एक टीम ने भी पड़ताल की है. कमेटी ने तथ्यों की जांच से जुड़ी एक रिपोर्ट तैयार की है. बीते शनिवार यह रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को सौंपी गई. कमेटी ने बताया कि उन्होंने सभी पक्षों से बात करने की कोशिश की लेकिन JNU प्रशासन और ABVP कार्यकर्ताओं ने उनसे बात नहीं की. कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में जो प्रस्ताव दिए हैं, उनके अनुसार विश्वविद्यालय के कुलपति (VC) एम. जगदीश कुमार को बर्खास्त किया जाए. VC की नियुक्ति के बाद से JNU में की गई हर नियुक्ति और फैसलों की न्यायिक जांच की मांग की गई है. JNU हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस के कमिश्नर को ही जिम्मेदार न माना जाए बल्कि कुलपति, शिक्षक और सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज किया जाए, क्योंकि इसके पीछे इन सबकी साजिश की आशंका है. JNU में फीस बढ़ोतरी वापस होनी चाहिए क्योंकि इसके बाद JNU सबसे महंगा केंद्रीय विश्वविद्यालय बन गया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

क्या JNU के VC जगदीश कुमार को पता था कि 5 जनवरी को कैंपस में गुंडे आने वाले हैं : कांग्रेस

कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में वीसी जगदीश कुमार से सवाल किए हैं कि पांच जनवरी की प्रेस रिलीज में साबरमती हॉस्टल का जिक्र क्यों नहीं है जबकि वहां सबसे ज्यादा हिंसा हुई थी. अगर 3 जनवरी को सर्वर रूम बंद करवाने के बाद अगले दिन ठीक कर लिया गया तो फिर 4 तारीख को दोबारा इसके बंद होने के बाद सर्वर क्यों नहीं चला. क्या ऐसा इसलिए किया गया था कि VC को मालूम था कि 5 जनवरी को कैंपस में गुंडे आएंगे.