संदेसरा ग्रुप लोन स्कैम : 5000 करोड़ रुपए के घोटाले की आंच कांग्रेस नेता अहमद पटेल तक पहुंची, ED कर रही पूछताछ

गुजरात में फॉर्मा क्षेत्र की इस कंपनी का संचालन वड़ोदरा का संदेसरा घराना करता है. आरोप है कि फॉर्मा कंपनी के प्रमोटर संदेसरा बंधुओं नितिन और चेतन तथा दीप्ति संदेसरा ने 14,500 करोड़ रुपये का बैंक लोन फ्रॉड किया.

संदेसरा ग्रुप लोन स्कैम : 5000 करोड़ रुपए के घोटाले की आंच कांग्रेस नेता अहमद पटेल तक पहुंची, ED कर रही पूछताछ

पूछताछ के लिए ED पहुंची कांग्रेस नेता अहमद पटेल के घर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

संदेसरा ग्रुप के खिलाफ 5000 करोड़ रुपये के घोटाले की जांच कर रही ED कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के घर पहुंची. गुजरात की फार्मा कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक पर चल रहे लोन घोटाला के मामले के सिलसिले में ईडी ने मनी लॉड्रिंग का केस दर्ज किया था. उसी मामले में आज ईडी कांग्रेस नेता अहमद पटेल से पूछताछ कर रही है. प्रमोटर्स संदेसरा बंधुओं से अहमद पटेल परिवार के संबंधों की जांच चल रही है. जांच एजेंसी ने अहमद पटेल के दामाद और बेटे के बाद खुद पटेल पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. 

मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) की टीम ने पहले बेटे और दामाद से पूछताछ की है. केंद्रीय जांच एजेंसियां लोन घोटाला करने वाली गुजराती की फॉर्मा सेक्टर की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक के संचालकों से अहमद पटेल के बेटे और दामाद के संबंधों की जांच कर रही हैं. अहमद पटेल के बेटे फैसल पटेल के बयान को मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट(PMLA) के तहत ईडी ने दर्ज किया था आरोप है कि बेटे फैसल और दामाद इरफान सिद्दीकी ने स्टर्लिंग बायोटेक घोटाले की धनराशि का इस्तेमाल मनी लॉन्ड्रिंग में किया था. 


क्या है स्टर्लिंग बायोटेक मामला 
गुजरात में फॉर्मा क्षेत्र की इस कंपनी का संचालन वड़ोदरा का संदेसरा घराना करता है. आरोप है कि फॉर्मा कंपनी के प्रमोटर संदेसरा बंधुओं नितिन और चेतन तथा दीप्ति संदेसरा ने 14,500 करोड़ रुपये का बैंक लोन फ्रॉड किया. जो देश छोड़कर भाग गए थे. सरकार उन्हें भगोड़ा घोषित कर चुकी है. कारोबार बढ़ाने की बात कहकर संदेसरा बंधुओं ने स्टर्लिंग बायोटेक के नाम पर 5383 करोड़ का लोन लिया था. यह लोन आंध्रा बैंक की अगुवाई वाले बैंकों के समूह ने दिया था.  मगर उन्होंने जानबूझकर इसे नहीं चुकाया. बैंकों की शिकायत पर आखिरकार सीबीआई ने अक्टूबर 2017 में फार्मा कंपनी के प्रमोटर नितिन संदेसरा, चेतन संदेसरा और दीप्ति संदेसरा के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था. वहीं ईडी ने जांच में पाया था कि स्टर्लिंग बायोटेक ने बैंकों से कर्ज लेने के लिए अपनी प्रमुख कंपनियों की बैलेंस शीट में आंकड़ों की हेराफेरी की. ईडी अब तक तीन बार अहमद पटेल के बेटे से पूछताछ कर चुकी है.

वीडियो: हॉट टॉपिक: जिसके नाम घोटाला, वही बेरोजगार!

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com