NDTV Khabar

धर्म के नाम पर वोट मांगने वालों पर चुनाव आयोग सख्त

आयोग ने राजनीतिक दलों से अनुरोध किया है कि वे अपने नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को सलाह दें कि 'वे समाज की शांति में बाधा पैदा करने के इरादे वाली ऐसी अपील करने से बचें.'

16 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
धर्म के नाम पर वोट मांगने वालों पर चुनाव आयोग सख्त

धर्म के नाम पर वोट मांगने वालों को पहले भी चेतावनी दे चुका है चुनाव आयोग.

खास बातें

  1. निर्वाचन आयोग ने राजनीतिक दलों को लिखी चिट्ठी
  2. कुछ नेता धार्मिक मामलों को उठाकर आदर्श आचार संहिता का करते हैं उल्लंघन
  3. चुनाव प्रक्रिया की शुचिता बरकरार रखने की अपील
नई दिल्ली: निर्वाचन आयोग ने पाया है कि कुछ नेता धार्मिक मामलों को उठाकर आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों को दरकिनार करते हैं. आयोग ने इस संबंध में राजनीतिक दलों को पत्र लिखा है. चुनाव आयोग ने कहा कि उपचुनावों के दौरान राजनीतिक दलों के पदाधिकारी आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों के तहत कवर नहीं होने वाले इलाकों में धार्मिक या साम्प्रदायिक आधार पर अपील करते हैं और ऐसा करके वे इसके प्रावधानों का उल्लंघन करते हैं.

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र के कलेक्टर ने मानी EVM से छेड़छाड़ की बात

आयोग ने सभी मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर के दलों को पत्र लिखकर कहा , 'इसके दूरगामी परिणाम होंगे क्योंकि इससे उन संसदीय या विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं के दिमाग पर निश्चित ही प्रभाव पड़ेगा जहां उपचुनाव हो रहे हैं जिससे उस निर्वाचन क्षेत्र में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव में बाधा उत्पन्न होगी.' 

ये भी पढ़ें:राजनीतिक दलों के गुप्त धन पर मोदी सरकार की टेढ़ी नजर

आयोग ने राजनीतिक दलों से अनुरोध किया है कि वे अपने नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को सलाह दें कि 'वे समाज की शांति में बाधा पैदा करने के इरादे वाली ऐसी अपील करने से बचें.' आयोग ने 29 जून को लिखे पत्र में कहा कि इस प्रकार के बयान देश के किसी भी हिस्से में किसी भी समय नहीं दिए जाने चाहिए.

वीडियो: पेड न्‍यूज से लेकर फेक न्‍यूज तक...


उसने कहा कि जिन इलाकों में आदर्श आचार संहिता लागू नहीं भी है, वहां भी शब्दों का इस्तेमाल करते समय विशेष सावधानी बरतनी चाहिए 'ताकि चुनाव प्रक्रिया की शुचिता बरकरार रखी जा सके और आमजन में कोई दुर्भावना पैदा नहीं हो जो कि स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव कराने के अनुरूप माहौल मुहैया कराने के लिए अनिवार्य है.'
 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
16 Shares
(यह भी पढ़ें)... नीरव मोदी के नाम रवीश कुमार का खुला खत

Advertisement