Exclusive : लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को उम्मीद, साल 2022 तक बन सकता है नया संसद भवन

ओम बिरला राजस्थान के कोटा-बूंदी लोकसभा सीट से सांसद हैं. उनको 17वीं लोकसभा में स्पीकर बनाया गया है. साल 2008 में वह विधायक भी चुने जा चुके हैं. एनडीटीवी से बातचीत में ओम बिरला ने बताया कि इस बार हंगामे की वजह से सदन एक भी बार स्थगित नहीं करना पड़ा है.

नई दिल्ली:

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला  ने एनडीटीवी से खास बातचीत करते हुए कहा कि साल 2022 में नए संसद भवन के आसार हैं या इसी भवन में सुधार या फिर नई इमारत भी संभव है. उन्होंने आगे कहा कि ''संसद में सबका सहयोग मिला. सत्ता पक्ष बहुमत में हैं, सदन के नेता के रूप में प्रधानमंत्री जी का, माननीय सदस्यों का, प्रतिपक्ष के सभी दलों के नेताओं और माननीय सदस्यों द्वारा सामूहिक रूप से सबका समर्थन मिला. सदन सर्वसम्मति से चलता है और मुझे यह दिखा कि सांसदों में अपने-अपने क्षेत्रों के लिए विकास की प्रतिस्पर्धा थी. 46 महिलाओं में 42 को बोलने का मौका मिला.''

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला बोले- सदन बहुमत से नहीं सर्वसम्मति से चलता है

आपको बता दें कि ओम बिरला राजस्थान के कोटा-बूंदी लोकसभा सीट से सांसद हैं. उनको 17वीं लोकसभा में स्पीकर बनाया गया है. साल 2008 में वह विधायक भी चुने जा चुके हैं. एनडीटीवी से बातचीत में ओम बिरला ने बताया कि इस बार हंगामे की वजह से सदन एक भी बार स्थगित नहीं करना पड़ा है. उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ओर से सहयोग मिला है.  उन्होंने बताया कि बजट सत्र में लोकसभा की कार्यवाही 280 घंटे चली है और इस सत्र में 35 विधेयक पारित किए गए. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सत्रहवीं लोकसभा का पहला सेशन सन 1952 से लेकर अब तक का सबसे स्वर्णिम सत्र : ओम बिरला

गौरतलब है कि बजट सत्र को समाप्त करते हुए लोकसभा स्पीकर ने जानकारी देते हुए बताया कि यह 1952 से लेकर अब तक का सबसे स्वर्णिम सत्र रहा है. पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, सत्र 7 अगस्त तक प्रस्तावित था, लेकिन सरकार के आग्रह पर स्पीकर ने इसे एक दिन पहले ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया. ओम बिरला ने कहा कि 17 जून से 6 अगस्त तक चले इस सत्र में कुल 37 बैठकें हुईं और करीब 280 घंटे तक कार्यवाही चली.