NDTV Khabar

राज्यपाल जगदीप धनखड़ का ममता सरकार पर हमला- 'दुर्गा पूजा महोत्सव में अपमानित महसूस किया', TMC का पलटवार

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने मंगलवार को कहा कि शहर में हुए दुर्गा पूजा महोत्सव (Durga Puja Carnival) में उन्होंने अपमानित महसूस किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राज्यपाल जगदीप धनखड़ का ममता सरकार पर हमला- 'दुर्गा पूजा महोत्सव में अपमानित महसूस किया', TMC का पलटवार

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar).

खास बातें

  1. राज्यपाल जगदीप धनखड़ का ममता सरकार पर हमला
  2. कहा- दूर्गा पूजा महोत्सव में अपमानित महसूस किया
  3. TMC ने पलटवार करते हुए कहा- प्रचार के भूखे हैं राज्यपाल
कोलकाता:

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने मंगलवार को कहा कि शहर में हुए दुर्गा पूजा महोत्सव (Durga Puja Carnival) में उन्होंने अपमानित महसूस किया. जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने बताया कि वह इतने दुखी थे कि इस सदमे से बाहर आने में उन्हें तीन दिन का वक्त लग गया. उन्होंने यह भी कहा कि पश्चिम बंगाल की जनता का सेवक होने के नाते कोई भी चीज उनके संवैधानिक कर्तव्यों को निभाने के आड़े नहीं आ सकती है. कार्यक्रम का आयोजन तृणमूल कांग्रेस (TMC) सरकार ने किया था. यह शहर में बड़े पैमाने पर होने वाले दुर्गा पूजा उत्सवों में से एक है. धनखड़ ने दावा किया कि इस कार्यक्रम में उन्हें 'पूरी तरह से दरकिनार कर दिया गया.' सत्तारूढ़ तृणमूल ने पलटवार करते हुए धनखड़ को 'प्रचार का भूखा' बताया. पार्टी ने कहा कि वह इस तरह से कार्य कर रहे हैं, जो राज्यपाल को शोभा नहीं देता.

मुर्शिदाबाद में तिहरे हत्याकांड ने लिया राजनीतिक रंग, राज्यपाल ने सरकार को घेरा


सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को हुए इस महोत्सव की बैठक व्यवस्था से धनखड़ खुश नहीं थे. उन्होंने बताया कि राज्यपाल को मंच पर किनारे की सीट दी गई थी और इस वजह से वह कार्यक्रम को ठीक प्रकार से देख नहीं सके थे. राज्यपाल ने कहा, 'महोत्सव में मैंने अपमानित महसूस किया. मैं बहुत दुखी और व्यथित हूं. यह मेरा नहीं, बल्कि पश्चिम बंगाल के लोगों का अपमान है. वे इस अपमान को पचा नहीं पाएंगे.' यहां एक कार्यक्रम से इतर धनखड़ ने कहा, 'मैं पश्चिम बंगाल के लोगों का सेवक हूं, लेकिन मेरे संवैधानिक कर्तव्यों को पूरा करने के आड़े कुछ नहीं आ सकता है.' उन्होंने कहा कि यह एक असामान्य किस्म की सेंसरशिप है.

टिप्पणियां

मेरा अलग विचार रखना, मुझे आपका दुश्मन नहीं बनाता है: पश्चिम बंगाल राज्यपाल

उन्होंने कहा, 'मैं चार घंटे तक वहां बैठा रहा, लेकिन मुझे पूरी तरह से दरकिनार किया गया. मुझे आमंत्रित करने के बाद आप मुझे सेंसर कैसे कर सकते हैं? किसी ने मुझे कहा कि यह घटना आपातकाल की याद दिलाती है.' धनखड़ ने कहा, 'इतना दुखी था कि इस सदमे से बाहर आने में मुझे तीन दिन का वक्त लगा.' तृणमूल के वरिष्ठ नेता तापस रॉय ने धनखड़ पर 'बिना बात का मुद्दा बनाने की कोशिश' करने का आरोप लगाया और कहा, 'इस मामले पर वह हफ्तेभर बाद टिप्पणी क्यों कर रहे हैं? वह प्रचार के भूखे हैं. वह इस तरह से कार्य कर रहे हैं, जो राज्यपाल को शोभा नहीं देता है.' इस कार्यक्रम में ममता बनर्जी मंत्रिमंडल के सदस्य, राज्यपाल, विभिन्न वाणिज्य दूतावासों के सदस्य तथा अन्य गणमान्य लोग और पर्यटक शामिल हुए.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement