लुप्त होती ग्रेट अंडमानी जनजाति के 10 लोगों को कोरोना होने से सरकार की बढ़ी चिंता

ग्रेट अंडमानी जनजाति के कुछ सदस्य पोर्ट ब्लेयर की यात्रा करते हैं जहां उनकी सरकारी नौकरी है.

लुप्त होती ग्रेट अंडमानी जनजाति के 10 लोगों को कोरोना होने से सरकार की बढ़ी चिंता

अंडमानी जनजाति छोटे स्ट्रेट द्वीप पर रहते हैं.

पोर्ट ब्लेयर :

भारत के घटते ग्रेट अंडमानी जनजाति (Great Andamanese tribe) के 10 सदस्यों ने कोरोनोवायरस पॉजिटिव पाए गए हैं, अधिकारियों ने गुरुवार को कहा, ये दूरस्थ द्वीप समूह में समूह और उस पर मौजूद अन्य स्वदेशी लोगों की सुरक्षा के बारे में चिंता का विषय है. अधिकारियों ने एएफपी को बताया कि 10 में से 6  लोग रिकवर कर गए हैं और उन्हें होम आईसोलेशन में रखा गया है, जबकि बाकी का इलाज स्थानीय अस्पताल में चल रहा है.

बता दें कि आज केवल 50 से अधिक ग्रेट अंडमानी लोग आज जीवित हैं और छोटे स्ट्रेट द्वीप पर रहते हैं, जहां सरकार उनके भोजन और आश्रय की देखभाल करती है.

लगभग 4,00,000 की आबादी वाले अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में 37 मौतों के साथ अब तक 2,268 कोरोनावायरस मामलों की सूचना है. हाल ही में द्वीपसमूह की राजधानी पोर्ट ब्लेयर में जनजाति के 6 सदस्यों के सकारात्मक परीक्षण के बाद अधिकारियों ने रविवार को स्ट्रेट आइलैंड में स्वास्थ्य अधिकारियों की एक टीम भेजी.

दिल्ली में कोरोना का बीते डेढ़ महीने का सबसे बड़ा आंकड़ा सामने आया

जनजाति के कुछ लोग पोर्ट ब्लेयर की यात्रा करते हैं जहां उनकी सरकारी नौकरी है.

अंडमान में रोग प्रबंधन के प्रभारी वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी अविजीत रे ने एएफपी को बताया."टीम ने 37 नमूनों का परीक्षण किया और ग्रेट अंडमानी जनजाति के चार सदस्यों को सकारात्मक पाया गया. वे अस्पताल में भर्ती हैं."

कोरोना से युवा भी रहें खूब सावधान!

Newsbeep

आदिवासी कल्याण के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी संजीव मित्तल ने बताया कि एएफपी के अधिकारी सभी सदस्यों को सुरक्षित और स्वस्थ रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)