NDTV Khabar

हरियाणा सरकार ने 'चूक' के लिए पंचकूला के डीसीपी को सस्पेंड किया 

पंचकूला में शुक्रवार को डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद भड़की हिंसा को रोकने में नाकाम रही हरियाणा सरकार ने आज पंचकूला ने डीसीपी को निलंबित कर दिया.

504 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
हरियाणा सरकार ने 'चूक' के लिए पंचकूला के डीसीपी को सस्पेंड किया 

पंचकूला में शुक्रवार को गुरमीत राम रहीम पर फैसले के बाद भड़की हिंसा में 29 लोग मारे गए थे.

खास बातें

  1. हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राम निवास ने माना कि चूक हुई
  2. उन्होंने इसके लिए पंचकूला के डीसीसी अशोक कुमार को निलंबित कर दिया
  3. पंचकूला में भड़की हिंसा में कम से कम 29 लोग मारे गए और 250 घायल हो गए
चंडीगढ़   : पंचकूला में शुक्रवार को डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रेप मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद भड़की हिंसा को रोकने में नाकाम रही हरियाणा सरकार ने आज पंचकूला ने डीसीपी को निलंबित कर दिया. लगातार आलोचनाओं का सामना कर रही सरकार ने शनिवार को यह कहते हुए पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) को निलंबित कर दिया कि उनके एक 'दोषपूर्ण' आदेश के कारण जिले में भारी भीड़ जमा हो गई.

यह भी पढ़ें : डेरा प्रमुख राम रहीम ने अपने अनुयायियों से पंचकूला से अपने घर लौटने की अपील की

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने मान चूक हुई
हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राम निवास ने कहा, हां चूक हुई है और इसलिए हमने पंचकूला के डीसीपी को निलंबित कर दिया. उन्होंने बताया कि अधिकारी ने जो निषेधाज्ञा जारी की थी उसके तहत केवल हथियार रखने पर रोक लगी थी. 5 या उससे ज्यादा लोगों के एक जगह जमा होने पर रोक नहीं लगी. एक आधिकारिक आदेश में कहा गया कि पंचकूला के डीसीपी, आईपीएस अधिकारी अशोक कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया. पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को बलात्कार के एक मामले में दोषी करार दिया था. इसके बाद डेरा अनुयायियों ने जमकर उत्पात मचाया. पंचकूला में इस हिंसा में कम से कम 29 लोग मारे गए और 250 घायल हो गए.
यह भी पढ़ें : जानें, रेप के दोषी बाबा राम रहीम की रोहतक जेल में कैसे बीती पहली रात

VIDEO: सिरसा में दो AK-47 के साथ एक डेरा समर्थक गिरफ्तार

टिप्पणियां


अनुयायियों को जमा क्यों होने दिया गया

निवास ने आज कहा, पुलिस उपायुक्त (पंचकूला) द्वारा धारा 144 के तहत जारी की गई दोषपूर्ण निषेधाज्ञा के कारण ही बड़ी संख्या में डेरा अनुयायी पंचकूला आने में सफल रहे. उनसे पूछा गया था कि मनोहरलाल खट्टर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने पंचकूला में डेरा अनुयायियों को इतनी बड़ी संख्या में जमा होने क्यों दिया जब यह आशंका थी कि राम रहीम के खिलाफ फैसला आने पर स्थिति बेकाबू हो सकती है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement