NDTV Khabar

ISIS के सभी 10 संदिग्धों को कोर्ट ने 12 दिन की NIA रिमांड पर भेजा, कल किया गया था गिरफ्तार

दिल्ली के एनआईए (NIA) द्वारा छापेमारी में पकड़े गए ISIS के सभी 10 संदिग्धों को कोर्ट ने 12 दिन की रिमांड पर भेजा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ISIS के सभी 10 संदिग्धों को कोर्ट ने 12 दिन की NIA रिमांड पर भेजा, कल किया गया था गिरफ्तार

NIA ने दिल्ली-यूपी में 16 जगहों पर मारा था छापा.

खास बातें

  1. ISIS संदिग्धों को कल किया गया था गिरफ्तार
  2. बड़े पैमाने पर 150 से ज्यादा अफसरों ने की छापेमारी
  3. दिल्ली के जाफराबाद में रची जा रही थी साज़िश
नई दिल्ली :

नेशनल इनवेस्टिगेटिव एजेंसी (NIA) ने भारत में इस्लामिक स्टेट (ISIS) के एक बड़े मॉड्यूल 'हरकत उल हर्ब ए इस्लाम' का भंडाफोड़ करते हुए बुधवार को 10 लोगों को गिरफ्तार किया था. दिल्ली की एक अदालत ने सभी 10 आरोपियों को 12 दिन की एनआईए हिरासत में भेज दिया. इन पर राजनीतिक हस्तियों और दिल्ली में सरकारी प्रतिष्ठानों सहित उत्तर भारत के कई अन्य हिस्सों में हमले की साजिश रचने का आरोप है. इन आरोपियों को कड़ी सुरक्षा के बीच और ढके हुए चेहरों के साथ अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजय पांडे की अदालत में पेश किया गया. न्यायाधीश ने मामले में बंद कमरे में सुनवाई का आदेश दिया. 

यह भी पढ़ें: ...जानिए कैसे NIA ने किया इस्लामिक स्टेट के नए मॉड्यूल का भंडाफोड़, बड़े आतंकी हमलों की थी तैयारी


एनआईए ने राष्ट्रीय राजधानी और उत्तर प्रदेश के अलग-अलग शहरों से गिरफ्तार किए गए 10 आरोपियों को पूछताछ के लिए 15 दिन की हिरासत में दिए जाने का अनुरोध किया था. मामले में गिरफ्तार किए गए लोगों में मुफ्ती मोहम्मद सुहैल उर्फ हजरत (29), अनास युनूस (24), राशिद जफर रक उर्फ जफर (23), सईद उर्फ सैयद (28), सईद का भाई रईस अहमद, जुबैर मलिक (20), जुबैर का भाई जैद (22), साकिब इफ्तेकार (26), मोहम्मद इरशाद (20 साल) और मोहम्मद आजम (35) शामिल है. 

यह भी पढ़ें: ISIS के नए आतंकी मॉड्यूल का खुलासा, NIA ने दिल्ली, यूपी में 16 जगहों पर मारा छापा 

ISIS संदिग्धों के वकील एमएस ख़ान ने कहा कि NIA ने कल जो प्रेस कांफ्रेंस में कहा था वैसा कुछ भी कोर्ट में नहीं कहा. किसका क्या रोल था वो भी नहीं बताया. NIA ने कहा कि उन्हें पूरे षड्यंत्र का पता लगाने के लिए 15 दिन की रिमांड चाहिए. हमने कहा कि आपने विस्फ़ोटक के नाम पर सुतली बम दिखाया है. रॉकेट लांचर के नाम पर ट्रैक्टर का नॉज़ल दिखाया है. कोर्ट ने 12 दिन की रिमांड दे दी है.

बड़े पैमाने पर 150 से ज्यादा अफसरों ने की छापेमारी
बता दें कि बुधवार की सुबह तड़के करीब 4 बजे जब लोग सो रहे थे तब एनआईए, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और यूपी एटीएस की दर्जनों टीमें एक साथ दिल्ली और यूपी में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के नए मॉड्यूल हरकत उल हर्ब ए इस्लाम से जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापेमारी कर रही थीं. ये छापेमारी दिल्ली के जाफराबाद में 6 जगहों, इसके अलावा मेरठ, अमरोहा, लखनऊ और हापुड़ में 17 जगहों पर पूरे दिन चलती रही. छापेमारी में करीब 150 लोग शामिल थे.

कुल 16 संदिग्ध पकड़े गए जिसमें दिल्ली से 5 और यूपी से 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया. एनआईए के आईजी आलोक मित्तल के मुताबिक ये मॉड्यूल 4 महीने से तैयार हो रहा था. इसकी जानकारी थी और 20 दिसंबर को इस मामले में कई धराओं के तहत केस दर्ज किया गया था.

टिप्पणियां

उत्तरी पूर्वी के दिल्ली के जाफराबाद में रची जा रही थी साज़िश
एनआईए के मुताबिक इस मॉड्यूल का मास्टरमाइंड मोहम्मद सोहैल मुफ़्ती है जो जाफराबाद का ही रहने वाला है, लेकिन वो फिलहाल अमरोहा में मौलवी के तौर पर काम कर रहा था. उसे अमरोहा से गिरफ्तार किया गया है. सोहैल ही इस ग्रुप का मोटिवेटर है जो विदेश में बैठे आईएस के एक हैंडलर के संपर्क में था. इसके अलावा दिल्ली के जाफराबाद से ही आजम, अनस, जाहिद, जुबेर मलिक और ज़ैद मलिक को गिरफ्तार किया गया है. सभी पड़ोसी हैं और आसपास जाफराबाद की अलग-अलग गलियों में रहते हैं. इस कार्रवाई के दौरान भारी भीड़ थी, जिस देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया था.

VIDEO: बड़े हमले की साजिश का पर्दाफाश



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement