NDTV Khabar

Exclusive: जानिए कैसे कार्तिकेय बने JEE Advanced में नंबर वन

एनडीटीवी से बातचीत में कार्तिकेय ने इस परीक्षा की तैयारी की स्ट्रेटेजी को विस्तार से बताया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Exclusive: जानिए कैसे कार्तिकेय बने JEE Advanced में नंबर वन

JEE Advanced Result 2019: टॉपर कार्तिकेय चंद्रेश गुप्ता

नई दिल्ली:

कार्तिकेय चंद्रेश गुप्ता ने इस साल के जेईई एडवांस्ड में सर्वोच्च स्थान हासिल किया है. महाराष्ट्र के रहने वाले चंद्रेश में पिछले दो सालों से मुंबई में रहकर कोचिंग के साथ इस परीक्षा की तैयारी कर रहे थे. एनडीटीवी से बातचीत में कार्तिकेय ने इस परीक्षा की तैयारी की स्ट्रेटेजी को विस्तार से बताया. उन्होंने बताया कि टीचर जो पढ़ाते थे उसे दोहराने में कार्तिकेय हर रोज़ करीब एक से डेढ़ घंटा लगाते थे. जहां तक सब्जेक्ट्स की बात है, कार्तिकेय हर रोज तीन से चार घंटे सिर्फ फिजिक्स को पढ़ने में लगाते थे. फिर दो से तीन घंटे न्यूमेरिकल्स की प्रैक्टिस में उनका वक़्त जाता था. पिछले सालों के टॉपर्स से अगर तुलना करें तो कार्तिकेय की स्ट्रेटेजी भी काफी कुछ उनसे मिलती-जुलती है. मसलन, उन्होंने भी फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स में सबसे ज्यादा वक़्त फिजिक्स को दिया. 

NEET और AIIMS के टॉपर अक्षत कहते हैं कि सब्जेक्ट के मुताबिक समय का बंटवारा जरूरी


कार्तिकेय ने बेसिक बुक के रूप में एच सी वर्मा की किताब का इस्तेमाल किया, केमिस्ट्री में मोटे तौर पर एनसीईआरटी को बेसिक रिसोर्स की तरह तैयार किया और मैथ्स के लिए अरिहंत प्रकाशन की किताब. अगर फिजिक्स के विस्तार में जाएं तो कार्तिकेय बताते हैं कि मैकेनिक्स में आपका काफी वक़्त जाता है. 11वीं में शुरुआत के छह महीने तो आपके इसी में निकल जाते हैं. इसके लिए आपकी कैलकुलस, वेक्टर, कोआर्डिनेट जुमेट्री वगैरह की समझ अच्छी होनी चाहिए. इसके अलावा फिजिक्स में आपको कायनेमैटिक्स और थर्मोडायनामिक्स को भी अच्छे से तैयार करना चाहिए. 

संघर्ष और सफलता के प्रतीक हैं प्रदीप द्विवेदी, कुछ ऐसी है UPSC में कामयाबी का परचम लहराने की कहानी

9v8tg9fo

सचिन तेंदुलकर की सिफारिश पर मिली थी हरमनप्रीत को नौकरी, ताने सहने के बाद ऐसे बनीं क्रिकेट की 'शेरनी'

जहां तक 12वीं के फिजिक्स का सवाल है ऑप्टिक्स, अल्टरनेटिंग करंट और एलेक्ट्रोमेग्नेटिस्म जेईई के लिए काफी अहम् होता है. न्यूमेरिकल्स के लिए कार्तिकेय ने आई ई ईरोडोव का इस्तेमाल भी किया. बात करें केमिस्ट्री की, तो आपको बता दें कि, पिछले सालों के टॉपर की तरह कार्तिकेय का फोकस भी आर्गेनिक केमिस्ट्री के रिएक्शन मकेनिज़्म पर और फिजिकल केमिस्ट्री के मोल कॉन्सेप्ट्स जैसे चैप्टर्स पर था. कार्तिकेय कहते हैं कि आर्गेनिक केमिस्ट्री अक्सर एनसीईआरटी से सीधे सवाल आ जाते हैं. इस लिए एनसीईआरटी कम से कम 2 से 3 बार पढ़ना चाहिए. कार्तिकेय ने फिजिकल केमिस्ट्री के लिए रेफेरेंस बुक के तौर पर ब्रूस महान और आर्गेनिक केमिस्ट्री के लिए पीटर साइकस भी पढ़ा था. 
टिप्पणियां

UPSC Result 2017: किसान की बेटी ने रचा इतिहास, पढ़ें Success Story

कार्तिकेय बताते हैं कि पीटर साइकस छोटी सी किताब है लिहाजा आपका खास वक़्त भी नहीं जाता है. इनऑर्गेनिक में पी-ब्लॉक, केमिकल बॉन्डिंग ये दो खास ध्यान रखने वाले टॉपिक्स हैं. अगर मैथ्स की बात करें तो अरिहंत प्रकाशन की किताब के अलावा एसएल लोनी की किताब से उन्होंने पढाई की. कार्तिकेय कहते हैं कि प्रॉब्लम्स सॉल्व करने में कई बार आप अटकते हैं, तो ऐसे में जल्दी हार मत मानिये. इससे फायदा ये होगा कि अगर आपने थोड़ा ज्यादा वक़्त लगा कर उस सवाल को सॉल्व कर लिया तो आपको न सिर्फ वो प्रोसेस याद हो जायेगा बल्कि आपका कॉन्फिडेंस भी बढ़ेगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement