JNU हिंसा: छात्रों पर हमले की इस समूह ने ली जिम्मेदारी, पुलिस कर रही है दावे की जांच- सरकारी सूत्र

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों और शिक्षकों पर हुए हमले में शामिल लोगों की पहचान के लिए पुलिस वीडियो फुटेज और चेहरे पहचानने की प्रणाली का इस्तेमाल कर रही है.

JNU हिंसा: छात्रों पर हमले की इस समूह ने ली जिम्मेदारी, पुलिस कर रही है दावे की जांच- सरकारी सूत्र

हिंदू रक्षक दल के पिंकी चौधरी ने ली हमले की जिम्मेदारी.

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस हिंदू रक्षक दल के उस दावे की जांच कर रही है, जिसमें जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में रविवार शाम को हुई हिंसा की जिम्मेदारी ली है. यह जानकारी सूत्रों के हवाले से सामने आई है. हिंदू रक्षक दल के नेता पिंकी चौधरी ने छात्रों पर हुए हमले की 'पूरी जिम्मेदारी' ली है. इस हिंसा में 30 से ज्यादा छात्र जख्मी हो गए थे.  न्यूज एजेंसी एएनआई ने चौधरी के हवाले से लिखा है, 'जेएनयू राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का केंद्र है. हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते. हम जेएनयू में हमले की पूरी जिम्मेदारी लेते हैं और हमला करने वाले हमारे कार्यकर्ता थे.'

कुछ लोगों का कहना है कि भाजपा के छात्रों के संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के खिलाफ आरोपों को छुपाने के लिए यह ग्रुप काम कर सकता है. 

मुंबई: JNU हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन में दिखा 'आजाद कश्मीर' का पोस्टर, मचा बवाल, पुलिस ने शुरू की जांच- देखें Video

वहीं, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों और शिक्षकों पर हुए हमले में शामिल लोगों की पहचान के लिए पुलिस वीडियो फुटेज और चेहरे पहचानने की प्रणाली का इस्तेमाल कर रही है. सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि पुलिस दोषियों की पहचान के लिए वीडियो फुटेज और चेहरे पहचानने की प्रणाली का इस्तेमाल कर रही है.

JNU हिंसा: 'हमले के वक्त जय श्री राम के नारे लगा रहे थे हमलावर', चश्मदीदों ने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया

गौरतलब है कि जेएनयू परिसर में रविवार रात लाठियों और लोहे की छड़ों से लैस कुछ नकाबपोश लोगों ने परिसर में प्रवेश कर छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला कर दिया था और परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था. बाद में प्रशासन को पुलिस को बुलाना पड़ा. जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष सहित हमले में कम से कम 34 लोग घायल हो गए थे.

JNU हिंसा में जख्मी हुईं JNUSU अध्यक्ष ऐशी घोष के खिलाफ केस दर्ज

Newsbeep

वहीं, दिल्ली पुलिस ने रविवार शाम जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा से एक दिन पहले यूनिवर्सिटी के सर्वर रूम में कथित रूप से तोड़फोड़ करने के मामले में जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष ऐशी घोष और 19 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. 3 जनवरी के मामले में भी एक एफआईआर दर्ज की गई है, लेकिन उसमें घोष का नाम नहीं है. जबकि लेफ्ट विंग के छात्रों के नाम दर्ज है. 4 जनवरी को जो मारपीट और सर्वर रूम तोड़ने की एफआईआर है उसमें ऐशी घोष और उनके 7-8 साथियों के नाम है. ये दोनों एफआईआर जेएनयू प्रशासन की तरफ से दर्ज कराई गई थी. जेएनयू में हुई हिंसा में कुछ छात्रों और शिक्षकों समेत 34 लोग जख्मी हुए हैं. इस हिंसा में ऐशी घोष को सिर में चोट आई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : JNU में फिर हिंसा - क्रोनोलॉजी से पहले थेथरोलॉजी समझिए