NDTV Khabar

पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी देर रात दुपट्टा से मुंह ढंककर स्कूटर पर निकलीं, जानें क्यों

पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी शुक्रवार देर रात स्कूटर की पिछली सीट पर बैठकर बाहर निकलीं.

1.2K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी देर रात दुपट्टा से मुंह ढंककर स्कूटर पर निकलीं, जानें क्यों

पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी ने स्कूटर की पिछली सीट पर बैठकर महिलाओं की सुरक्षा का जायजा लिया

खास बातें

  1. किरण बेदी ने पुडुचेरी में सड़कों पर महिलाओं की सुरक्षा का जायजा लिया
  2. इस दौरान उन्होंने दुपट्टे से अपना चेहरा ढंक रखा था
  3. बगैर हेलमेट के स्कूटर की सवारी को लेकर कुछ लोगों ने उठाए सवाल
पुडुचेरी: पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी शुक्रवार देर रात स्कूटर की पिछली सीट पर बैठकर बाहर निकलीं. इस दौरान अपनी पहचान छिपाने के लिए उन्होंने दुपट्टे से चेहरा ढंक रखा था. दरअसल वह इस केंद्रशासित प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा का जायजा लेना चाह रही थीं. स्कूटर को एक महिला ही चला रही थी. किरण बेदी के इस कदम को कई लोगों ने सराहा, जबकि कुछ लोगों ने ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन को लेकर उनकी आलोचना भी की. ऐसा इसलिए क्योंकि तो किरण बेदी और स्कूटर चला रही महिला दोनों ही बगैर हेलमेट के थीं.

शहर में देर रात सुरक्षा जायजा लेने के बाद उन्होंने ट्वीट किया, 'महसूस किया कि पुडुचेरी महिलाओं के लिए सुरक्षित है, रात में भी.' उन्होंने हालांकि कहा कि वह कुछ कदम उठाने का सुझाव देंगी जो सुरक्षा मजबूत करने के लिए पुलिस को उठाने की जरूरत है.
  उपराज्यपाल ने लोगों को सलाह दी कि अगर वह अपनी चिंताओं से पीसीआर को अवगत कराएं या 100 नंबर पर फोन करें. पूर्व आईपीएस अधिकारी लोगों से मिलने और उनसे संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए आम तौर सप्ताहांत के अपने दौरे में आसपास के क्षेत्रों में जाती हैं.

यह भी पढ़ें: किरण बेदी ने हर हफ्ते विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करने के मुख्यमंत्री नारायणसामी के निर्णय को सराहा

बता दें कि तमिलनाडु की तरह पुडुचेरी में भी काफी लंबे समय तक दोपहिया वाहनों पर पीछे बैठने वालों के लिए हेलमेट जरूरी नहीं था, लेकिन 2015 में मद्रास हाईकोर्ट ने आदेश जारी कर इसे जरूरी बनाने को कहा था.

VIDEO : सभी को लेना होगा स्वच्छता का संकल्प: किरण बेदी


मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने इस साल 1 मई से दोपहिया वाहन पर बैठने वालों के लिए हेलमेट पहनना अनिवार्य कर दिया. मुख्यमंत्री के मुताबिक इस केंद्रशासित प्रदेश में कुल सड़क दुर्घटनाओं में 46 फीसदी मामले टू-व्हीलर्स से जुड़े हुए थे. पिछले साल यहां बगैर हेलमेट के टू-व्हीलर्स पर सवार 60 लोगों की मौत हो गई थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement