NDTV Khabar

तेजस्वी यादव के इस्तीफे पर महागठबंधन में तनातनी, नीतीश कुमार को लालू यादव का करारा जवाब

लालू ने नाम लिए बगैर नीतीश कुमार पर निशाना साधा और कहा कि तेजस्वी यादव के इस्तीफ़े की मांग कर रही बीजेपी और उसकी तरह की मानसिकता वाले लोगों पर हम कोई अहसान नहीं करेंगे.

432 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
तेजस्वी यादव के इस्तीफे पर महागठबंधन में तनातनी, नीतीश कुमार को लालू यादव का करारा जवाब

तेजस्वी के इस्तीफे के सवाल पर लालू यादव ने साधा नीतीश कुमार पर निशाना

पटना: बिहार में सत्तारुढ़ महागठबंधन की गांठें ख़त्म होने का नाम नहीं ले रही हैं. लालू परिवार पर छापेमारी और तेजस्वी के इस्तीफ़े की मांग के बीच दोनों ओर से बयानों के तीर चल रहे हैं. बेटे के इस्तीफ़े की मांग पर पहली बार चुप्पी तोड़ते हुए लालू ने नाम लिए बगैर नीतीश कुमार पर निशाना साधा और कहा कि तेजस्वी यादव के इस्तीफ़े की मांग कर रही बीजेपी और उसकी तरह की मानसिकता वाले लोगों पर हम कोई अहसान नहीं करेंगे. मतलब साफ है कि आरजेडी किसी कीमत पर तेजस्वी का इस्तीफा नहीं चाहती. (लालू यादव ने कहा, इस्‍तीफा नहीं देंगे उपमुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी, लेकिन...)

ऐसी अपुष्ट ख़बरें हैं कि नीतीश ने इस्तीफ़े के लिए तेजस्वी को शनिवार शाम तक का वक़्त दिया है. अब लालू का यह बयान नीतीश के उसी अल्टीमेटम के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है. हाल ही में जेडीयू ने आधिकारिक तौर पर तेजस्वी को जनता के बीच जाकर अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफ़ाई देने के लिए चार दिन का अल्टीमेटम दिया था. इस बीच जेडीयू सूत्रों का कहना है कि तेजस्वी की ये सफ़ाई कुछ दिनों के लिए ही कारगर होगी. मीडिया से बातचीत में लालू ने यह भी जोड़ा कि वे बिहार के गठबंधन पर कोई संकट नहीं आने देंगे. (लालू यादव और परिवार का विवादों से रहा है पुराना नाता, जानें ऐसे ही कुछ विवाद)

पिछले सप्ताह लालू प्रसाद और उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव का नाम भ्रष्टाचार के मामले में उछला था. यदि तेजस्वी अपना पद छोड़ते हैं तो बिहार के साथ-साथ राष्ट्रीय राजनीति में भी उनकी फिर से वापसी हो सकती है. नीतीश कुमार पर उनके सहयोगियों, जिनमें कांग्रेस भी शामिल है, ने आरोप लगाया है कि नीतीश भाजपा के एजेंडे पर काम कर रहे हैं.
तेजस्वी के खिलाफ सीबीआई में मामला दर्ज होने के बाद नीतीश कुमार ने निजी तौर पर एक तय सीमा में तेजस्वी से अपना रुख साफ करने को कहा था, इस पर लालू प्रसाद ने कोई टीका-टिप्पणी नहीं की थी. (सुशील मोदी ने कहा - तेजस्वी यादव के खिलाफ आरोप तब के हैं जब वह बालिग हो गए थे)

लालू यादव ने एनडीटीवी से एक ख़ास मुलाकात में कहा कि बिहार के लोगों ने तेजस्वी को वोट देकर विजयी बनाया है. हमारी पार्टी ने लोगों से मुलाकात कर यह फैसला लिया है कि तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि तेजस्वी से इस्तीफा मांगने वाले ये लोग कौन होते हैं, न तो इन्हें जनता ने चुना है और न ही तेजस्वी को हटाने की मांग करने के लिए चुना गया है?

जदयू के अल्‍टीमेटम के बाद पहली बार अपनी चुप्‍पी तोड़ते हुए राजद नेता और उपमुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव ने बुधवार को कहा था कि मुझ पर एफआईआर राजनीतिक साजिश है. ये महागठबंधन को तोड़ने की कोशिश है. मुझे पिछड़ा होने की सजा दी जा रही है. लालू यादव के परिवार पर छापेमारी के बाद पहली राज्‍य सरकार की पहली कैबिनेट बैठक में हिस्‍सा लेने पहुंचे तेजस्‍वी यादव ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि ये 28 साल के नौजवान से डरते हैं और सवालिया लहजे में पूछा कि जिन आरोपों की बात विपक्ष कह रहा है तब उनकी उम्र 13-14 साल की थी. ऐसे में क्‍या 13-14 साल की उम्र में घोटाला करेंगे. उन्‍होंने कहा कि उनकी पार्टी इस मुद्दे पर नहीं झुकेगी और जरूरत पड़ने पर जनता के बीच जाएंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement