NDTV Khabar

अमित शाह की रैली के बाद हिंसा, राजनाथ सिंह ने ममता बनर्जी को किया फोन, सीएम बोलीं -अपने नेता और समर्थकों को संभाल लीजिए

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के बीच फोन पर कहासुनी की बात सामने आ रही है.

1.5K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमित शाह की रैली के बाद हिंसा, राजनाथ सिंह ने ममता बनर्जी को किया फोन, सीएम बोलीं -अपने नेता और समर्थकों को संभाल लीजिए

राजनाथ सिंह ने ममता बनर्जी को किया फोन

खास बातें

  1. अमित शाह की रैली के बाद हुई थी हिंसा
  2. तृणमूल कांग्रेस के दफ्तर पर भी हुआ था हमला
  3. राजनाथ सिंह ने हालात पर की थी सीएम से बात
कोलकाता:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के बीच फोन पर कहासुनी की बात सामने आ रही है. सूत्रों के अनुसार पश्चिम बंगाल (Mamata Banerjee)  के कांथी में बीजेपी रेलै के बाद हुई हिंसा को लेकर राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को फोन किया था. राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने फोन पर राज्य में लचर होती कानून व्यवस्था और भाजपा की रैली के बाद हुई हिंसा को लेकर चिंता जताई थी. सूत्रों की मानें इसपर मुख्यमंत्री (Mamata Banerjee) ने सिंह को जवाब दिया कि आप पहले अपने नेता और कार्यकर्ताओं को संभाल लीजिए. ध्यान हो कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मंगलवार को कांथी में रैली थी. इस रैली के खत्म होने के ठीक बाद बसों पर हमला किया गया, मोटरसाइकिलों को जलाया गया यहां तक कि तृणमूल कांग्रेस के दफ्तर पर भी हमला किया गया.

पश्चिम बंगालः कलकत्ता हाईकोर्ट ने फिर बीजेपी की रथयात्रा पर लगाई रोक


बिगड़ते हालात को देखते हुए घटनास्थल के आसपास बड़ी तादाद में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई. इसके बाद तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के नेता एक दूसरे पर आरोप लगाते रहे. जहां तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि यह पूरी घटना पहले से ही निर्धारित थी तो वहीं बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने टीएमसी को तालिबान मामातर करमो से बताया. रैली के बाद फैली हिंसा की सूचना मिलने के बाद ही केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने शाम में सीएम को फोन किया था. इसी दौरान दोनों के बीच तीखी बहस की बात कही जा रही है.

पश्चिम बंगाल में BJP की रथयात्रा को मंजूरी देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, कही यह बात...

गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बीते कुछ समय से पश्चिम बंगाल सरकार और खासकर ममता बनर्जी पर तीखे हमले कर रहे हैं. कुछ दिन पहले ही उन्होंने कहा था कि ममता दीदी को डर था कि अगर हमारी यात्रा राज्य में निकलती है तो उनकी सरकार की अंतिम यात्रा निकल जाएगी. रैली को संबोधित करते हुए शाह (Amit Shah) ने कहा था कि यह चुनाव पार्टियों के बीच का चुनाव है. यह बंगाल की संस्कृति को समाप्त करने वाली टीएमसी को हराने का चुनाव है. यह बंगाल की जनता को निर्णय लेना है कि संस्कृति को बचाने वाली बीजेपी को लाएंगे या उनकी संस्कृति को खत्म करने वाली टीएमसी को. सुभाष चंद्र को भुलाने में कांग्रेस ने कोई कसर नहीं छोड़ी. लेकिन पीएम मोदी सुभाष बाबू के जीवन, देशभक्ति और उनके बंगाल को अमर करने के लिए अंडमान के टापू का नाम सुभाष जी के नाम पर रखने का फैसला किया है.

अमित शाह पर TMC का पलटवार, कहा- मालदा का भाषण उनकी बेचैनी दर्शाता है

साथ ही उन्होंने कहा था कि देश के आजाद होने के बाद पश्चिम बंगाल हर जगह देश का नेतृत्व करता था. कला, संस्कृति और हर क्षेत्र में बंगालियों का नाम था. एक लंबे के समय कम्युनिस्ट शासन और ममता दीदी के शोषण के बाद आज बंगाल जहां है, उसकी कल्पना आप नहीं कर सकते. एक समय बंगाल का औद्योगिक उत्पादन दर 27 फीसदी था जो आज 3.3 फीसदी रह गया है. बंगाल को टीएमसी ने कंगाल बना दिया. पहले 100 में 32 रोजगार बंगाल देता था, आज यह आंकड़ा महज चार का है. कम्युनिस्ट तो बुरे थे ही, बंगाल की जनता ने इन्हें निकालने के लिए परिवर्तन किया और टीएमसी को लाया. लेकिन आज जनता कहती है की टीएमसी से तो कम्युनिस्ट अच्छे थे. हर पांचवा व्यक्ति गरीबी रेखा के नीचे जी रहा है.'

यूपी के लिए क्या है अमित शाह का प्लान, आंकड़ों में देखिए BJP मजबूत या SP-BSP गठबंधन?

इसके अलावा शाह ने कहा था कि बंगाल में टीएमसी की सरकार ने लोकतंत्र को समाप्त कर दिया है. हम बंगाल में रथ यात्रा निकालने वाले थे लेकिन हमें राज्य सरकार ने रोक दिया. उन्हें लगा कि यह यात्रा उनके लिए अंतिम यात्रा न हो जाए. कोई बात नहीं दीदी हम ज्यादा मेहनत करेंगे लेकिन इस बार आपको बंगाल से हटाकर रहने वाले हैं. मैं आपको बताता हूं कि पंचायत चुनाव हुए थे, उस दौरान बड़ी संख्या में हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या हुई. आपको कहता हूं और टीएमसी को भी कहता हूं कि पंचायत चुनाव वाली गलती लोकसभा चुनाव में मत करना. वर्ना हम ईंट से ईंट बजा देंगे. यह चुनाव बंगाल सरकार के अंडर नहीं होने वाला है. यह चुनाव आयोग के अंडर होगा, यहां पैरामिलिट्री होगी.'

लोकसभा चुनाव 2019 : ममता बनर्जी के मंच से संकेत, क्या पीएम पद के लिए राहुल गांधी की राह और कठिन

टिप्पणियां

 

VIDEO- पीएम पद के लिए ममता की दावेदारी कितनी मजबूत?


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement