NDTV Khabar

कश्मीर में बंगाली मजदूरों की हत्या की घटना पर ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार से पूछा सवाल

जम्मू-कश्मीर में 5 बंगाली मजदूरों की हत्या के मामले में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र की मोदी सवाल पर उठाए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्मीर में बंगाली मजदूरों की हत्या की घटना पर ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार से पूछा सवाल

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर में 5 बंगाली मजदूरों की हत्या के मामले में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र की मोदी सवाल पर उठाए हैं. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर का पूरा प्रशासन अब केंद्र सरकार के हाथों है. ईयू सांसदों के दौरे को देखते हुए सभी तरह की सावधानियां बरती गई थीं तो फिर इन मजदूरों की हत्या कैसे हो गई.  आपको बता दें कि बीते मंगलवार को  कश्मीर के कुलगाम के कतारसू में आतंकियों ने रात 8:45 बजे कश्मीर से बाहर के पांच मजदूरों की हत्या कर दी. आतंकियों ने इस हमले को अंजाम तब दिया जब यूरोपीय सांसदों का एक 27 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल जम्मू-कश्मीर के दौरे पर आने वाला था.पुलिस ने बताया कि कुलगाम में पांच गैर कश्मीरी मजदूरों  के शव बरामद किए जाने के बाद इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया गया और साथ ही सेना, सीआरपीएफ और पुलिस के अतिरिक्त जवानों को भी इलाके में भेजा गया. घटना में घायल एक मजदूर की बाद में इलाज के दौरान मौत हो गई थी. 


गौरतलब है कि पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने के बाद यह पहली घटना थी जिसमें आतंकियों ने एक साथ इतने प्रवासी श्रमिकों को मार डाला हो. मारे गए श्रमिक पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद थे. जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद से ही बौखलाए आतंकी ट्रक ड्राइवरों, कारोबारियों और दूसरे राज्यों से आए मजदूरों को निशाना बना रहे हैं. इससे पहले भी आतंकियों ने एक गैर-कश्मीरी मजदूर की हत्या कर दी थी. पिछले 15 दिनों में आतंकवादियों ने 6 ट्रक ड्राइवरों, एक सेब कारोबारी और दूसरे राज्य से आए 6 मजदूरों की हत्या कर चुके हैं.

अनुच्छेद 370 ने J&K को अलगाववाद और आतंकवाद के सिवाय कुछ नहीं दिया : पीएम मोदी​

अन्य खबरें :

टिप्पणियां

सीनियर IAS उमंग नरूला बने लद्दाख LG के सलाहकार, IPS एस एस खंडारे को पुलिस प्रमुख का जिम्मा

EU सांसदों के कश्मीर दौरे पर घिरी मोदी सरकार, अब JDU ने पूछा- क्या यही सही समय था



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement