Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

बैंकों की खस्ता हालात का ज़िम्मेदार बताए जाने पर बोले मनमोहन सिंह- किसी के सिर दोष मढ़ने का जुनून सवार है सरकार पर

उन्होंने कहा कि आर्थिक सुस्ती, सरकार की उदासीनता से भारतीयों के भविष्य और आकांक्षाओं पर असर पड़ रहा है. निचली मुद्रास्फीति की सनक से किसानों पर संकट, सरकार की आयात-निर्यात नीति से भी समस्यायें खड़ी हो रही हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बैंकों की खस्ता हालात का ज़िम्मेदार बताए जाने पर बोले मनमोहन सिंह- किसी के सिर दोष मढ़ने का जुनून सवार है सरकार पर

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह.

नई दिल्ली:

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा बैंकों की खस्ता हालात के लिए जिम्मेदार बताए जाने पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पलटवार किया है. मनमोहन सिंह कहा कि किसी के सिर दोष मढ़ने का सरकार पर जुनून सवार है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आर्थिक सुस्ती, सरकार की उदासीनता से भारतीयों के भविष्य और आकांक्षाओं पर असर पड़ रहा है.  निचली मुद्रास्फीति की सनक से किसानों पर संकट, सरकार की आयात-निर्यात नीति से भी समस्यायें खड़ी हो रही हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र भर मे कारोबारी धारणा काफी कमजोर, कई इकाइयां बंद हुईं. भाजपा सरकार सिर्फ विपक्ष पर दोष मढ़ने में जुटी है और समाधान ढूंढने में असफल हो गई.

बता दें, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की हालत के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन के दौर को जिम्मेदार ठहाराया था. उन्होंने कहा था कि मनमोहन सिंह और राजन का कार्यकाल सरकारी बैंकों के लिए 'सबसे बुरा दौर' था. सीतारमण ने मंगलवार को कोलंबिया यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल एंड पब्लिक अफेयर्स में एक व्याख्यान में कहा कि सभी सार्वजनिक बैंकों को 'नया जीवन' देना आज मेरा पहला कर्तव्य है. वित्त मंत्री ने कहा, 'मैं रघुराम राजन का एक महान विद्वान के रूप में सम्मान करती हूं. उन्हें उस समय केंद्रीय बैंक में लिया गया जब भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी के दौर में थी.'


BJP नेता ने नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी और वित्त मंत्री के पति पर साधा निशाना, कहा- 'इको सिस्टम' काम पर लग गया

आरबीआई के पूर्व गवर्नर राजन की मोदी सरकार पर टिप्पणी को लेकर सीतारमण ने कहा कि राजन के दौर में ही बैंक लोन से जुड़ी काफी दिक्कतें थी. राजन ने हाल ही में ब्राउन यूनिवर्सिटी में एक व्याख्यान में मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि पहले कार्यकाल में नरेंद्र मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर अच्छा प्रदर्शन नहीं किया. इसकी वजह किसी भी फैसले के लिए नेतृत्व पर बहुत ज्यादा निर्भरता थी. साथ ही नेतृत्व के पास निरंतर , तार्किक दृष्टिकोण नहीं था कि कैसे आर्थिक वृद्धि हासिल की जाए. 

IMF का भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ा दावा, कहा- 2019 में 7.3 से घटकर 6.1 रह जाएगी वृद्धि दर , पढ़े 10 बड़ी बातें 

वित्त मंत्री ने कहा, 'रिजर्व बैंक के गवर्नर के रूप में वह राजन का ही कार्यकाल था " जब साठगांठ करने वाले नेताओं के फोन भर से कर्ज दिया गया. इस मुश्किल से बाहर निकलने के लिए बैंक आज तक सरकारी पूंजी पर निर्भर हैं.' उन्होंने कहा, 'डॉक्टर सिंह प्रधानमंत्री थे और मुझे भरोसा है कि डॉक्टर राजन इस बात से सहमत होंगे कि सिंह 'भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर' निरंतर स्पष्ट दृष्टिकोण रखते थे.'

टिप्पणियां

महाराष्ट्र में एक चुनावी रैली के दौरान बोले राहुल गांधी, जेब कतरे की तरह मोदी, मुद्दों से ध्यान भटकाते हैं

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: दुनिया की अर्थव्यवस्थाएं ढलान पर, भारत के सामने भी बड़ी चुनौतियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... बॉलीवुड एक्टर ने फिर साधा सलमान खान पर निशाना, कहा-लोग आपसे ज्यादा मुझ पर विश्वास करते हैं

Advertisement