पत्रकार पल्लवी गोगोई के रेप के आरोपों का एमजे अकबर ने किया खंडन, कहा- सहमति से थे रिश्ते में

अकबर ने कहा न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा है कि 2 नंवबर 2018 में वाशिंगटन पोस्ट में लिखे एक लेख में पल्लवी गोगोई ने उनके ऊपर झूठे और गलत आरोप लगाए हैं.

पत्रकार पल्लवी गोगोई के रेप के आरोपों का एमजे अकबर ने किया खंडन, कहा- सहमति से थे रिश्ते में

खास बातें

  • एमजे अकबर ने आरोपों का किया खंडन
  • सहमति से रिश्ते में होने की कही बात
  • पत्नी ने भी किया बचाव
नई दिल्ली:

एमजे अकबर ने अमेरिका में बसी पत्रकार पल्लवी गोगोई के रेप आरोपों को खंडन किया है. अकबर का दावा है कि 1994 के आसपास के उनके और पल्लवी सहमति से रिश्ते में थे और इसकी वजह से उनके परिवार में भी तनाव की वजह बन गया हुआ था. बाद में यह रिश्ता खराब ताल्लुकात के साथ खत्म हो गया. न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए बयान में उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने उनके साथ काम किया है वह हमारे और पल्लवी के बारे में जानते हैं, वह उस बात की गवाही देने के लिए तैयार हैं क्या उनमें से किसी को पल्लवी का व्यवहार देखकर ऐसा लगा कि वह किसी भी दबाव में थी.  


एमजे अकबर पर एक और महिला ने लगाया रेप का आरोप- जैसे ही मैं भागने लगी, बहते आंसुओं के साथ, उन्होंने मेरा मुंह नोच लिया
 
एमजे अकबर ने अमेरिका में बसी पत्रकार पल्लवी गोगोई के रेप आरोपों को खंडन किया है. अकबर ने कहा न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा है कि 2 नंवबर 2018 में वाशिंगटन पोस्ट में लिखे एक लेख में पल्लवी गोगोई ने उनके ऊपर झूठे और गलत आरोप लगाए हैं. मैंने इस लेख को पढ़ा है और यह जरूरी हो गया है कि कुछ तथ्य सबके प्रकाश में लाए जाएं. इसके आगे अकबर ने दावा है कि 1994 के आसपास के वह और पल्लवी सहमति से रिश्ते में थे और कई महीने में तक चला. इसकी वजह से उनके परिवार में भी तनाव हुआ था बाद में यह रिश्ता खराब ताल्लुकात के साथ खत्म हो गया. उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने उनके साथ काम किया है वह हमारे और पल्लवी के बारे में जानते हैं, वह उस बात की गवाही देने के लिए खुशी-खुशी तैयार हैं, उनमें से किसी को भी ऐसा नहीं लगा कि पल्लवी किसी भी दबाव में थी.  
 
#MeToo: पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर कोर्ट में दर्ज कराएंगे अपना बयान, पत्रकार के खिलाफ मानहानि का है मामला
Newsbeep

गौरतलब है कि वाशिंगटन पोस्ट में लिखे एक लेख में पल्लवी गोगोई ने आरोप लगाया है कि एमजे अकबर समाचारपत्र 'द एशियन एज' के प्रधान संपादक थे, जब वह (पल्लवी) 'अकबर से प्रभावित 22-वर्षीय पत्रकार' के रूप में समाचारपत्र से जुड़ी थीं. पल्लवी लिखती हैं, वह उनकी 'भाषा तथा वाक्यांशों से मंत्रमुग्ध थीं' और सभी प्रकार का 'ज़ुबानी अत्याचार' बर्दाश्त करती गईं, क्योंकि वह इसे सीखने की प्रक्रिया का हिस्सा मानती रहीं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एमजे अकबर की पत्नी ने भी एएनआई को दिये बयान में सभी आरोपों का खंडन किया है
 


#MeToo : मानहानि केस में पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने दर्ज कराया बयान​