NDTV Khabar

लोकसभा में छलका नरेश अग्रवाल का दर्द, 'हमारी सैलरी हमारे सचिव से भी कम है'

कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने भी नरेश अग्रवाल का समर्थन किया. आनंद शर्मा ने कहा कि हिंदुस्तान में सांसदों के जितना अपमानित किया जाता है.

1276 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा में छलका नरेश अग्रवाल का दर्द, 'हमारी सैलरी हमारे सचिव से भी कम है'

समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद नरेश अग्रवाल.

खास बातें

  1. लोकसभा में कार्यवाही के दौरान नरेश अग्रवाल बोले
  2. सपा सांसद ने सैलरी बढ़ोत्तरी का मद्दा उठाया
  3. आनंद शर्मा ने भी किया नरेश अग्रवाल का समर्थन
नई दिल्ली: संसद के मानसून सत्र में राज्यसभा की कार्यवाही के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद नरेश अग्रवाल ने सांसदों की सैलरी बढ़ाने का मुद्दा उठाया. उन्होंने सातवें वेतन आयोग का जिक्र करते हुए कहा, हमारी सैलरी हमारे सचिव से भी कम है.' नरेश अग्रवाल ने कहा कि सांसदों की सैलरी को भी सातवें वेतन आयोग से जोड़ देना चाहिए. कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने भी नरेश अग्रवाल का समर्थन किया. आनंद शर्मा ने कहा कि हिंदुस्तान में सांसदों के जितना अपमानित किया जाता है, उतना कहीं नहीं किया जाता. क्योंकि यहां लोग कहते हैं कि हम अपनी सैलरी खुद बढ़ाते हैं. 

ये भी पढ़ें: इन 10 कारणों से मायावती ने दिया इस्‍तीफा

लोकसभा में हंगामा, कार्यवाही बाधित
लोकसभा में बुधवार को विपक्षी दलों ने किसानों से जुड़े मुद्दों और दलितों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचारों को लेकर हंगामा किया, जिसके कारण सदन की कार्यवाही कुछ देर के लिए बाधित हुई. सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इन मुद्दों को उठाना चाहा, लेकिन उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी गई.

इसके तत्काल बाद विपक्षी सदस्य सदन की अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के आसन की ओर बढ़े और नारेबाजी शुरू कर दी.

केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा, "आज सदन की कार्यसूची में कृषि सूचित है, इसलिए मैं विपक्षी सदस्यों से कृषि और किसानों से जुड़े मुद्दों पर बहस का आग्रह करता हूं."

ये भी पढ़ें: मानसून सत्र में 16 नए विधेयक पेश करेगी सरकार

कुमार ने कहा, "हम बहस के लिए तैयार हैं, इसलिए कृपया सदन की कार्यवाही में व्यवधान न डालें."

उन्होंने कहा कि सरकार संसद को इस बात की जानकारी देगी कि वह किसानों के कल्याण के लिए क्या कर रही है.

हंगामे के बीच अध्यक्ष ने प्रश्नकाल चलाने की कोशिश की. सदन में हंगामा न रुकता देख महाजन ने कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

महाजन ने कहा, "आप केवल हंगामा करना चाहते हैं. आप चर्चा नहीं करना चाहते."

सरकार हर मुद्दे पर बहस के लिए तैयार : अनंत कुमार
केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने बुधवार को विपक्षी दलों से संसद की कार्यवाही सुचारू रूप से होने देने का आग्रह करते हुए कहा कि सरकार दोनों सदनों में सभी मुद्दों पर सकारात्मक बातचीत के लिए तैयार है. कुमार ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की संसदीय दल की बैठक के बाद कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि संसद के दोनों सदनों में सुचारु रूप से कामकाज होगा." बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उपस्थित थे.

ये भी पढ़ें: बीएसपी सुप्रीमो मायावती का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया

भाजपा नेता ने कहा, "मैं विपक्षी दलों से दोनों सदनों में सकारात्मक बहस होने देने का आग्रह करता हूं. सरकार सभी मुद्दों पर बहस और चर्चा के लिए तैयार है." लोकसभा और राज्यसभा में मंगलवार को विपक्षी दलों के नेताओं ने भीड़ द्वारा हिंसा, दलितों पर अत्याचार, किसानों की आत्महत्या जैसे कई मुद्दों को लेकर हंगामा किया, जिसके बाद दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित कर दी गई.

राज्यसभा सदस्य और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को यह आरोप लगाते हुए राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया कि उन्हें उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में दलितों पर हुए अत्याचारों के खिलाफ बोलने नहीं दिया गया.

संसदीय दल की बैठक को लेकर केंद्रीय रसायन, उर्वरक और संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पार्टी सांसदों को देश में वस्तु एवं सेवा कर सुचारु रूप से लागू करने के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी.
इनपुट: IANS


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement