Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

निर्भया केस: गृह मंत्रालय ने दोषी मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति के पास भेजी, नामंजूर करने की सिफारिश की

मामले में दोषी विनय शर्मा, अक्षय कुमार सिंह, मुकेश कुमार सिंह और पवन गुप्ता को 22 जनवरी को फांसी दी जानी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
निर्भया केस: गृह मंत्रालय ने दोषी मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति के पास भेजी, नामंजूर करने की सिफारिश की
नई दिल्ली:

निर्भया सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्याकांड के चारों दोषियों में से एक मुकेश की दया याचिका को गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेज दिया है. इसके साथ ही गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति से इस याचिका को नामंजूर करने की सिफारिश की है. वहीं, निर्भया सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्याकांड के चारों दोषियों को गुरुवार को तिहाड़ जेल परिसर के कारावास नंबर तीन में स्थानांतरित किया गया जहां उन्हें फांसी पर लटकाया जाना है. मामले में दोषी विनय शर्मा, अक्षय कुमार सिंह, मुकेश कुमार सिंह और पवन गुप्ता को 22 जनवरी को फांसी दी जानी है. हालांकि, दिल्ली सरकार ने बुधवार को उच्च न्यायालय को बताया था कि एक दोषी की दया याचिका लंबित होने के मद्देनजर फांसी को स्थगित किया जाना चाहिए.

बता दें, निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्याकांड के दोषियों को फांसी में देरी पर गुरूवार को भाजपा और आम आदमी पार्टी के बीच आरोप-प्रत्यारोप देखने को मिला जहां भाजपा ने फांसी में विलंब में दिल्ली सरकार की संलिप्तता और लापरवाही की बात कही तो ‘आप' ने भाजपा पर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कानून व्यवस्था केंद्र के पास है. 


Nirbhaya Case : चारों दोषियों को तिहाड़ जेल नंबर तीन में शिफ्ट किया गया, यहीं है फांसी कोठी

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने पत्रकारों से कहा कि 2017 में मृत्युदंड के खिलाफ अपील को खारिज करने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के तत्काल बाद सभी दोषियों को अगर आप सरकार ने नोटिस दे दिया होता तो अब तक उन्हें फांसी हो चुकी होती और देश को इंसाफ मिल चुका होता. उन्होंने कहा, ‘अगर उन्हें अभी तक फांसी नहीं दी गयी है तो यह आप सरकार की लापरवाही की वजह से है. दिल्ली की आप सरकार की संलिप्तता की वजह से ढाई साल से अधिक की देरी हुई. दिल्ली सरकार को दोषियों से सहानुभूति है और यह देरी इसी का नतीजा है.'

पटलवार करते हुए उप मुख्यमंत्री और आप नेता मनीष सिसोदिया ने केंद्र सरकार को चुनौती दी कि दिल्ली की कानून व्यवस्था दो दिन के लिए उनकी सरकार को देकर दिखाएं और वह दोषियों को फांसी पर लटका देगी. सिसोदिया और आप नेता संजय सिंह ने कहा कि भाजपा नेता ने झूठ बोला है और असंवेदनशील बयान दिया है. 

निर्भया मामले में प्रकाश जावड़ेकर ने दिल्ली सरकार पर उंगली उठाई, मनीष सिसोदिया ने दिया करारा जवाब

सिसोदिया ने कहा, ‘जावड़ेकर जी पुलिस आपके अधीन है. कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी आपके पास है. गृह मंत्रालय आपके पास है. तिहाड़ के डीजी और प्रशासन आपके अधीन हैं और आप हमें जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. एक संवेदनशील मामले में इतना नीचे मत गिरिए. यह लोगों को उकसाने का स्पष्ट प्रयास है.'

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं आपसे (जावड़ेकर से) पूछना चाहता हूं कि आप जिम्मेदारी क्यों नहीं ले रहे. अगर आप से दिल्ली की कानून व्यवस्था नहीं संभलती तो दिल्ली पुलिस और कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी दो दिन के लिए हमें दे दीजिए और हम निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटका देंगे.'

Nirbhaya Case: तिहाड़ जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार से मांगी फांसी की नई तारीख, कहा- दया याचिका के निपटारे तक...

टिप्पणियां

राज्यसभा सदस्य सिंह ने संवाददाताओं से कहा, ‘जो भी देरी हो रही है उसकी जिम्मेदार भाजपा है इसलिए लोगों को गुमराह करने के बजाए केंद्रीय मंत्री को ऐसे संवदेनशील मामले की अनदेखी करने के लिए माफी मांगनी चाहिए.'

VIDEO: उम्मीद है 22 जनवरी को ही होगी दोषियों को फांसी - निर्भया की मां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... रानू मंडल का गाना सुनकर छलक उठे हिमेश रेशमिया के आंसू, नहीं थम रहा Video देखने का सिलसिला...

Advertisement