Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

नगाओं के लिए अलग झंडा, संविधान नहीं; बंदूकों के साये में बातचीत नहीं हो सकती: रवि

केंद्र सरकार ने नगाओं के लिए अलग झंडा और संविधान की एनएससीएन-आईएम की मांग को नकार दिया है और साफ कर दिया है कि बंदूकों के साये में उग्रवादी समूह के साथ अंतहीन बातचीत मंजूर नहीं है.

नगाओं के लिए अलग झंडा, संविधान नहीं; बंदूकों के साये में बातचीत नहीं हो सकती: रवि

नगालैंड के राज्यपाल आर. एन. रवि ने बयान जारी कर कहा कि परस्पर सहमति से विस्तृत समझौते का मसौदा तैयार किया गया है

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार ने नगाओं के लिए अलग झंडा और संविधान की एनएससीएन-आईएम की मांग को नकार दिया है और साफ कर दिया है कि बंदूकों के साये में उग्रवादी समूह के साथ अंतहीन बातचीत मंजूर नहीं है. नगा वार्ता के लिए वार्ताकार और नगालैंड के राज्यपाल आर. एन. रवि ने कहा कि केंद्र सरकार दशकों लंबी शांति बातचीत की प्रक्रिया को अंजाम पर पहुंचाएगी, रवि ने बयान जारी कर कहा कि परस्पर सहमति से विस्तृत समझौते का मसौदा तैयार किया गया है जिसमें सभी महत्वपूर्ण मुद्दे शामिल हैं. बयान में कहा गया है, ‘‘दुर्भाग्य से इस समय एनएससीएन-आईएम ने देर करने का रूख अपना रखा है और अलग नगा राष्ट्रीय झंडा और संविधान जैसे विवादास्पद मुद्दों को उठा रहा है जिस पर वे भारत सरकार के रूख से पूरी तरह अवगत हैं.' 

बॉलीवुड की जानी-मानी हस्तियों से पीएम मोदी ने की मुलाकात, की ये अपील

रवि के बयान इसलिए मायने रखते हैं कि केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को पांच अगस्त को समाप्त करने की घोषणा कर दी थी और राज्य को दो केंद्र शासित क्षेत्रों में बांट दिया था. विशेष दर्जा समाप्त करने के बाद जम्मू-कश्मीर का अलग झंडा और संविधान भी समाप्त हो गया. सत्तारूढ़ भाजपा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कई अवसरों पर साफ किया कि पूरे भारत के लिए वे केवल एक झंडे और एक संविधान में विश्वास करते हैं. 

बीजेपी के पूर्व विधायक की बेटी के आरोप, मर्जी के खिलाफ करवा रहे हैं शादी, इंजेक्शन देकर रखा कैद

रवि ने कहा कि एनएससीएन-आईएम ने समझौते के प्रारूप को ‘‘शरारतपूर्ण तरीके'' से लंबा खींचा है और इसमें काल्पनिक विषय डाल रहा है. समझौते के प्रारूप पर तीन अगस्त 2015 को एनएससीएन- आईएम के महासचिव थुइंगलेंग मुइवा और सरकार के वार्ताकार रवि ने प्रधानमंत्री मोदी की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए थे. रवि ने बयान में कहा कि एनएससीएन-आईएम के कुछ नेता विभिन्न मीडिया संगठनों के माध्यम से लोगों को ‘‘बेतुकी धारणाओं और पूर्व धारणाओं'' से गुमराह कर रहे हैं. और इस पर वे भारत सरकार के साथ पहले ही सहमत हो चुके हैं. 

मोदी सरकार पर बरसे पी चिदंबरम, कहा- गाय के लिए सरकार का प्यार सिर्फ कागज पर ही

एनएससीएन-आईएम के कुछ नेताओं के ऐसे दुर्भाग्यपूर्ण रूख के कारण रवि ने 18 अक्टूबर को कोहिमा में नगा समाज के कुछ प्रमुख पक्षकारों के साथ लंबी मीटिंग की. बैठक में नगालैंड के 14 नगा जनजातियों, नगालैंड के सभी गैर नगा जनजाति, नगालैंड गांव बुढा संगठन, नगालैंड जनजाति परिषद्, गिरजाघर के नेताओं और नागरिक समाज संगठनों का शीर्ष नेतृत्व शामिल हुआ. बयान में कहा गया है कि नगा नेताओं ने समझौते के पक्ष में जोरदार समर्थन जताकर जिस राजनीतिक परिपक्वता और बुद्धिमत्ता का परिचय दिया वह सराहनीय है. 

अपने 9 साल के मासूम बच्‍चे के साथ श्‍मशान में रहने को मजबूर शख्‍स, बारिश में गिर गया था मकान

इसमें कहा गया है, 'नगा लोगों की इच्छाओं का सम्मान करते हुए भारत की सरकार बिना किसी देरी के शांति प्रक्रिया को निष्कर्ष पर पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है. बंदूकों के साये में अंतहीन वार्ता स्वीकार्य नहीं है.' बयान में कहा गया है कि भारत सरकार वार्ता में शामिल सभी पक्षों से उम्मीद करती है कि लोगों की इच्छाओं पर ध्यान दें और तय समय के अंदर नगा शांति प्रक्रिया को निष्कर्ष पर पहुंचाने में मदद करें. समझौता प्रारूप 18 सालों तक 80 दौर की बातचीत के बाद आया है. इसमें पहली सफलता 1997 में मिली थी जब नगालैंड में दशकों तक उग्रवाद के बाद संघर्षविराम समझौता हुआ था. 

कमलेश तिवारी की मां ने स्थानीय बीजेपी नेता पर लगाया बेटे की हत्या कराने का आरोप, अखिलेश यादव ने कही ये बात

1947 में भारत की स्वतंत्रता के तुरंत बाद नगालैंड में उग्रवाद की शुरुआत हुई थी. रवि ने कहा कि भारत सरकार ने प्रधानमंत्री मोदी के गतिशील और निर्णायक नेतृत्व में नगा शांति प्रक्रिया को निष्कर्ष तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है जो पिछले 22 वर्ष से अधिक समय से चल रहा है. उन्होंने कहा कि परिणामस्वरूप नगा शांति प्रक्रिया पिछले पांच वर्षों में वास्तव में समग्र बन गयी है और निष्कर्ष के चरण तक पहुंच चुकी है.