NDTV Khabar

युवा CEO के कार्यक्रम में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कहा- 'विकास' को हम मास मूवमेंट बना कर रहेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नई दिल्ली में देश के युवा कार्यकारी अधिकारियों (CEO) के साथ बातचीत की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
युवा CEO के कार्यक्रम में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कहा- 'विकास' को हम मास मूवमेंट बना कर रहेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश के युवा कार्यकारी अधिकारियों को संबोधित किया

खास बातें

  1. नीति आयोग के कार्यक्रम में युवा CEO को संबोधित किया PM ने
  2. प्रधानमंत्री ने युवा अधिकारियों को बताया 'चैंपियंस ऑफ चेंज'
  3. विकास को जन आंदोलन बनाने का आह्वान किया प्रधानमंत्री ने
नई दिल्ली: दिल्ली में कई कंपनियों के युवा सीईओ को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के लिए दीवानों की कमी नहीं थी. सैकड़ों सालों से लोग देश के लिए बलिदान देते चले आ रहे थे.

उन्होंने कहा कि 2017-2022 तक हमें कहां जाना है. हमें इस पर विचार करना होगा. उन्होंने कहा कि गांधी जी ने क्या किया, लोग दीवाने थे आजादी के लिए. गांधी जी ने सभी को आजादी का सैनिक बना दिया. गांधी जी ने लोगों के मन में आजादी का भाव पैदा किया और सफाई कर्मी अपना काम आजादी के लिए करने लगा. किसान किसानी आजादी के लिए करने लगा. शिक्षक अपना काम आजादी के लिए कर रहा था. यह काम गांधी जी ने किया. इस तरह गांधी जी ने आजादी के मूवमेंट को मास मूवमेंट बनाया.

यह भी पढ़ें: तीन तलाक- सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक, महिला सबलीकरण की ओर बड़ा कदम: पीएम नरेंद्र मोदी

आज हमारे देश में हर सरकार ने आगे बढ़ने का प्रयास किया है. लेकिन आजादी के बाद विकास मास मूवमेंट नहीं बन पाया. हमें यह करना है. हम यह करके रहेंगे.


यह भी पढ़ें: राजीव गांधी की जयंती पर पीएम नरेंद्र मोदी ने उनके योगदान को याद किया...

टिप्पणियां
पीएम मोदी ने कहा कि आज हम 2017 में है और 2022 तक हमें यह संकल्प लेना है कि हमें कहां पहुंचना है. हमें आधुनिक भारत के लिए काम करना है. उन्होंने युवा सीईओ से कहा कि आप भी देश की इस प्रगति में सैनिक बन सकते हैं. प्रयास करने से रास्ते मिलते जाएंगे.

VIDEO: आजादी के बाद हम विकास को जन आंदोलन नहीं बना पाए: नरेंद्र मोदी
नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के हर नागरिक को लगना चाहिए कि ये देश मेरा है. सरकार के लिए जनहित सबसे ऊपर है. उन्होंने कहा कि सरकार ने सोचने का तरीका बदला है. देश कहां जाए ये सरकार की जिम्मेदारी है. सरकार के लिए नागरिकों का कल्याण और उनकी खुशी सर्वोपरि है. उन्होंने कहा कि मेरी इस प्रक्रिया का उद्देश्य यह है कि हर व्यक्ति को लगे कि यह देश मेरा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement