NDTV Khabar

क्विक रिएक्शन मिसाइल का हुआ परीक्षण, जमीन से हवा में 30 किलोमीटर तक कर सकती है मार

ऑल-वेदर और ऑल-टेरेन मिसाइल  को एक ट्रक पर लगाया जा सकता है और एक कनस्तर में रखा जा सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्विक रिएक्शन मिसाइल का हुआ परीक्षण, जमीन से हवा में 30 किलोमीटर तक कर सकती है मार

QSRAM का पहला परीक्षण 4 जून, 2017 को हुआ था.

खास बातें

  1. सुबह 11.05 बजे हुआ परीक्षण
  2. ओडिशा के चांदीपुर से हुआ परीक्षण
  3. सतह से हवा में 30 किलोमीटर तक कर सकती है मार
नई दिल्ली:

भारत ने रविवार को ओडिशा में चांदीपुर स्थित परीक्षण रेंज से ऑल-वेदर और ऑल-टेरेन क्विक रिएक्शन सरफेस-टू-एयर मिसाइल (QRSAM) का परीक्षण किया गया. इस अत्याधुनिक मिसाइल को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने भारत की सेना के लिए विकसित किया है. डीआरडीओ के सूत्रों ने बताया कि  एयर डिफेंस सिस्टम, QRSAM का परीक्षण सुबह 11.05 बजे एक ट्रक-आधारित लॉन्च यूनिट से किया गया. 

भारतीय सेना के 'नाग' रात के अंधेरे में भी दुश्मन के टैंको को कर देंगे नेस्तनाबूद

सूत्र ने बताया कि ऑल-वेदर और ऑल-टेरेन मिसाइल  को एक ट्रक पर लगाया जा सकता है और एक कनस्तर में रखा जा सकता है. साथ ही यह इलेक्ट्रॉनिक काउंटर सिस्टम से लैस है, जिससे यह एयरक्राफ्ट रडार के जैमर के खिलाफ भी जाकर मार कर सकती है.  सूत्रों ने कहा कि QRSAM ठोस-ईंधन प्रणोदक का उपयोग करता है और इसकी रेंज 25-30 किमी है.

EXCLUSIVE: जब इस्राइली 'जुगाड़' से फ्रांस-निर्मित विमान पर IAF ने तैनात कर दी रूसी मिसाइल


टिप्पणियां

बता दें  QSRAM का पहला परीक्षण 4 जून, 2017 को हुआ था. इसके बाद 26 फरवरी, 2019 को एक ही दिन सफलतापूर्वक दो राउंड के ट्रायल किए गए. दो मिसाइलों का परीक्षण विभिन्न ऊंचाई और स्थितियों के लिए किया गया था. सूत्रों ने कहा कि परीक्षण उड़ानों ने अपने वायुगतिकी, प्रणोदन, संरचनात्मक प्रदर्शन और उच्च पैंतरेबाज़ी क्षमताओं का सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया था.

वीडियो: एयर फोर्स की मिसाइल ने उड़ा दिया था अपना ही चॉपर



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement