गैंगस्टर रवि पुजारी को 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेजा गया, मुंबई में 78 मामले हैं दर्ज

रवि पुजारी के खिलाफ मुम्बई में 78 अपराधिक मामले दर्ज हैं.  कभी छोटा राजन गिरोह के साथ जुड़े रहे रवि पुजारी ने बाद में अपना अलग गिरोह बनाकर हफ्तावसूली करने लगा था. विदेश में रहकर मुम्बई में अपराध को अंजाम देने वाला रवि पुजारी में बॉलीवुड में अपनी दहशत फैला रखी थी.

गैंगस्टर रवि पुजारी को 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेजा गया, मुंबई में 78 मामले हैं दर्ज

पुजारी को दक्षिण अफ्रीका के सेनेगल से भारत लाया गया था.

मुंबई:

गैंगस्टर रवि पुजारी को मुंबई लाकर कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. रवि पुजारी के खिलाफ मुम्बई में 78 अपराधिक मामले दर्ज हैं.  कभी छोटा राजन गिरोह के साथ जुड़े रहे रवि पुजारी ने बाद में अपना अलग गिरोह बनाकर हफ्तावसूली करने लगा था. विदेश में रहकर मुम्बई में अपराध को अंजाम देने वाला रवि पुजारी में बॉलीवुड में अपनी दहशत फैला रखी थी. पुजारी को दक्षिण अफ्रीका के सेनेगल से भारत लाया गया था. पुजारी के खिलाफ कर्नाटक और बेंगलुरू में कई अपराध दर्ज होने की वजह से पहले उसे कर्नाटक ले जाया गया. वहां की जांच पूरी होने के बाद मुम्बई लाया गया है. 

बता दें, कर्नाटक की एक अदालत से हालही में मुंबई पुलिस को गैंगस्टर रवि पुजारी की हिरासत की मंजूरी दी थी. मुंबई के संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) मिलिंद भरम्बे ने कहा था कि पुजारी को हिरासत में लेने की मुंबई अपराध शाखा की कोशिशों में यह बड़ी कामयाबी है.

बेंगलुरू में पब मालिक की गोली मारकर हत्या, क्या शहर में दोबारा पैर फैलाने की कोशिश कर रहा अंडरवर्ल्ड?

पुजारी करीब एक साल से कर्नाटक में जेल में बंद है. इससे पहले वह पिछले कई वर्षों से फरार था. उसे पिछले साल फरवरी में दक्षिण अफ्रीका से भारत लाया गया था. एक अधिकारी ने कहा कि अपराध शाखा का जबरन वसूली निरोधक प्रकोष्ठ पुजारी को 21 अक्टूबर 2016 को विले पार्ले में हुई गोलीबारी की घटना के सिलसिले में गिरफ्तार करेगी. अधिकारी ने बताया कि पुजारी के सात सहयोगी पहले से ही इस मामले में जेल में बंद हैं, जबकि वह फरार था.


भगोड़े गैंगस्टर रवि पुजारी को किया गया प्रत्यर्पित, सेनेगल से लाया गया बेंगलुरु

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मूल रूप से कर्नाटक के उडुपी के रहने वाला पुजारी विदेश से जबरन वसूली का रैकेट चलाता था, जिसमें व्यावसायियों, फिल्मी हस्तियों आदि को निशाना बनाया गया था. (इनपुट- भाषा से भी)