चुनावी रैली में तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर कसा तंज- जब प्रवासी पैदल वापस आ रहे थे तो घर में बंद थे मुख्यमंत्री

हिसुआ में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि 'नीतीश कुमार 144 दिनों तक मुख्यमंत्री आवास में बंद थे. लेकिन अब वो घर से बाहर आ गए हैं. क्यों? तब भी कोरोना था. अब भी कोरोना है. लेकिन अब उनको आपका वोट चाहिए, तो उनको बाहर आना पड़ा है.'

चुनावी रैली में तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर कसा तंज- जब प्रवासी पैदल वापस आ रहे थे तो घर में बंद थे मुख्यमंत्री

तेजस्वी प्रवासियों और रोजगार के मुद्दे पर नीतीश कुमार को घेर रहे हैं.

खास बातें

  • तेजस्वी यादव की हिसुआ में रैली
  • प्रवासियों और रोजगार के मुद्दे पर नीतीश को घेरा
  • एनडीए की सरकार को बताया 'डबल इंजन वाली सरकार'
हिसुआ, बिहार:

Bihar Assembly Elections 2020: अगले हफ्ते से शुरू हो रहे बिहार विधानसभा चुनावों के लिए सारी राजनीतिक पार्टियां जी-जान से लगी हुई हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को बिहार के सासाराम से पहली रैली की. राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) अपने पिता लालू प्रसाद यादव की गैरमौजूदगी में पार्टी का पूरा दारोमदार लेकर चल रहे हैं. उनकी रैलियों में खूब भीड़ जुट रही है और वो सीधा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तीखे हमले कर रहे हैं. शुक्रवार को अपनी एक रैली में तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर कोविड-19 महामारी के दौरान 'घर में बंद रहने' का आरोप लगाया है. उन्होंने प्रवासी मजदूरों का मुद्दा भी उठाया और कहा कि जब प्रवासी मजदूर वापस अपने घर आ रहे थे तो नीतीश कुमार मुख्यमंत्री आवास में बंद थे.

हिसुआ में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार महामारी के खतरे के दौरान अपने घर में बंद थे और अब वोट मांगने के लिए बाहर निकल आए हैं. उन्होंने कहा, 'नीतीश कुमार 144 दिनों तक मुख्यमंत्री आवास में बंद थे. लेकिन अब वो घर से बाहर आ गए हैं. क्यों? तब भी कोरोना था. अब भी कोरोना है. लेकिन अब उनको आपका वोट चाहिए, तो उनको बाहर आना पड़ा है.'

तेजस्वी यादव ने प्रवासी मजदूरों के मुद्दे को लेकर नीतीश कुमार को घेरा. उनका निशाना इस संकट के दौरान नीतीश कुमार के रुख पर रहा. कोरोनावायरस के चलते देशभर में लगे लॉकडाउन में 32 लाख से ज्यादा महिला-पुरुष देश के कई हिस्सों से बिहार वापस आए थे. बिहार सरकार ने सभी को नौकरी देने का वादा किया था लेकिन बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार हैं.

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव: तेजस्वी यादव के दावे से घबराई BJP ने नीतीश कुमार को तीसरे दिन ही दिखाया आईना

राज्य सरकार पर हमला करते हुए तेजस्वी ने बीजेपी के 'डबल इंजन' विकास के मॉडल- जिसमें एक ही पार्टी केंद्र और राज्य में सत्ता में हो- पर सवाल उठाए और कहा कि क्या इससे बिहार के विकास में कोई मदद मिली है? 

नीतीश कुमार जेडीयू और पीएम नरेंद्र मोदी बीजेपी 2017 से बिहार में सत्ता में है. तेजस्वी यादव इन चुनावों में बेरोजगारी के मुद्दे पर इस सरकार को खूब घेर रहे हैं. उन्होंने आज की रैली में पूछा, 'क्या नीतीश कुमार ने आपको 15 सालों में रोजगार दिया... क्या गरीबी हटाई? सरकारी नौकरी के उनके वादे का क्या हुआ? फैक्ट्रियों का क्या हुआ?' 

तेजस्वी ने अपने चुनावी प्रचार के दौरान NDTV से बातचीत में कहा कि, 'लोग बहुत गुस्से में हैं. 15 साल हो गए हैं. लेकिन बिहार को अभी तक विशेष दर्जा नहीं मिला है. इन लोगों ने न गरीबी हटाई, न बेरोजगारी हटाई. लोग इस डबल इंजन वाली सरकार से बहुत नाराज हैं. '

Video: बिहार के दंगल में एक मंच पर राहुल गांधी-तेजस्वी यादव

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com